नियमित योगाभ्‍यास से बने रहेंगे निरोग और बढ़ेगी इम्‍यूनिटी.

Live Radio


बीमारियों से बचाव के लिए नियमित तौर पर योग करना चाहिए. योग हमें शांत करता है और स्थिरता लाता है. अपने रूटीन में योग को शामिल करके हमें अपनी इम्‍यूनिटी को मजबूत बना सकते हैं, ताकि आगे चल कर किसी तरह की शारीरिक समस्‍या का सामना न करना पड़े. वहीं इसके जरिये आप कमर दर्द जैसी समस्‍याओं से भी निजात पा सकें. आज के फेसबुक लाइव योग सेशन (Live Yoga Session) में योग एक्‍सपर्ट सविता यादव ने कई छोटे छोटे योगाभ्‍यास के अलावा पद्मासन, पर्वतासन आदि अभ्यासों के बारे में बताया. इनके नियमित अभ्‍यास से जहां पेट की मांसपेशियां मजबूत बनी रहती हैं, वहीं तनाव (Stress) से भी मुक्ति मिलती है. योग एक कला है और इसका अभ्यास धीरे-धीरे करना चाहिए. आप इसमें एक दिन में निपुण नहीं बन सकते. अभ्यास करते हुए ही यह आपकी आदत में शामिल होगा. इसलिए धीरे धीरे योग करें और स्‍वस्‍थ जीवन के लिए योग अपनाएं. पद्मासन पद्मासन शब्द दो अलग शब्दों से मिलकर बना है. पद्मासन में पहला शब्द पद्म है, जिसका अर्थ कमल होता है जबकि दूसरा शब्द आसन है, जिसका अर्थ बैठना होता है. पद्मासन में योगी ऐसी स्थिति में बैठता है जैसे कमल का फूल. पद्मासन के फायदेपद्मासन करने से शरीर को बहुत जबरदस्त फायदे मिलते हैं. अगर आप कभी अशांत और बेचैन महसूस कर रहे हों तो पद्मासन का अभ्यास करें. ये आपके मन को शांत करने में मदद करेगा. इस आसन को अलौकिक ऊर्जा प्राप्त करने, मेडिटेशन या ध्यान करने, चक्र या कुंडलिनी को जाग्रत करने के लिए करते हैं. पद्मासन बहुत ही शक्तिशाली आसन है. ये कमर और हृदय रोगों के लिए बेहतरीन आसन है. इसके तमाम भौतिक और आध्यात्मिक लाभ योगशास्त्र में बताए गए हैं. ये मेडिटेशन के लिए बताए गए बेहतरीन आसनों में से एक है. मार्जरी आसन
मार्जरी आसन को अंग्रेजी में कैट पोज (Cat pose) के नाम से बुलाया जाता है. इसे कैट खिंचाव मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है. इस आसन को करने से रीढ़ और पीठ की मांसपेशियों का लचीलापन बना रहता है. मार्जरी आसन एक आगे की ओर झुकने और पीछे मुड़ने वाला योग आसन है. कैट वॉक दुनिया भर में प्रसिद्ध है, लेकिन हम योग आसन वर्ग में कैट पोज के बारे में चर्चा करते हैं. यह आसन आपके शरीर के लिए अनके प्रकार से लाभदायक है. यह आसन रीढ़ की हड्डी को एक अच्छा खिंचाव देता है. इसके साथ यह पीठ दर्द और गर्दन दर्द में राहत दिलाता है. इसे भी पढ़ें – बॉडी की स्‍ट्रेंथ बढ़ाएंगे ये योगासन, कमर का फैट भी होगा दूर मार्जरी आसन के फायदे रीढ़ की हड्डी को अधिक लचीला बनने में मदद करता है पाचन क्रिया में सुधार करने में मदद करती है रक्त परिसंचरण में सुधार करती है पेट से अनावश्यक वसा को कम करने में मदद करता है पेट को टोन करने में मदद करता है तनाव को दूर करने में बहुत मदद करता है मन को शांत करके मानसिक शांति प्रदान करता है कंधे और कलाई दोनों को मजबूत बनाता है कौवा चालन इसे करने के लिए नीचे उकड़ू की स्थिति में बैठ जाएं. इसके बाद अपने दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रख लें. सामान्य श्वास लेते हुए योगा मैट के चारों ओर चलें. इसे करने से कई तरह के लाभ होते हैं. यह आसन पैरों की मांसपेशियों को फैलाता है. साथ ही यह शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है. डाइजेशन के लिए बहुत अच्‍छा है. कमर दर्द , पेरों की क्षमता बढ़ाने वाले योगासन कराए हैं. इसे भी पढ़ें – सूर्य नमस्‍कार से करें दिन की शुरुआत, रोगों से मुक्ति दिलाएंगे ये योगासन पर्वतासन इस आसन को करने के लिए सबसे पहले बैठ जाएं. अपनी रीढ़ को सीधा रखें और अपने दोनों हाथों की उंगलियों को एक-दूसरे के साथ इंटरलॉक कर लें. अब अपनी हथेलियों को पलट लें और इन्‍हें अपने सिर की सीध में रखे रहें. इसके बाद अपने हाथों को ऊपर की तरफ ले जाएं. ध्‍यान रहे आपके हाथ सीधे हों. इसके बाद गहरी सांस लेते हुए कंधे, बाजू और पीठ की मांसपेशियों में एक साथ खिंचाव महसूस करें. इस स्थिति में दो मिनट तक रहें. फिर सांस छोड़ते हुए अपने हाथों को नीचे की ओर ले आएं. इस आसन को नियमित करीब 10 मिनट तक करें.



Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker