RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

“सजा दो घर को गुलशन-सा अवध में राम आए हैं”……..

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

बसंतोत्सव में छात्राओं ने संगीत की धुनों पर लगाएं ठुमके

जीबीएम कॉलेज में बसंतोत्सव का आयोजन

गया। सूर थे,साज थे और साथ था बसंत के सुहाने गीतों का। जीबीएम कॉलेज में संगीत की ताल पर जब छात्राओं ने ठुमके लगाना शुरू किया तो पूरा प्रशासनिक भवन का सभागार हॉल बसंत के उल्लास से भर गया। मौका था जीबीएम कॉलेज में बसंत उत्सव का। जिसमें छात्राओं ने बसंत गीतों के गायन एवं नृत्य प्रस्तुत कर खूबसूरत लम्हों को यादगार बना दिया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में छात्रा ईशा शेखर, जयंती, रिया पाठक, सोनी तथा पल्लवी ने सरस्वती वंदना ‘हे शारदे माँ, अज्ञानता से हमें तार दे माँ’ भजन की भक्तिभाव-पूर्ण प्रस्तुति देकर किया। तत्पश्चात अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण को मध्येनज़र रखते हुए छात्रा रुचि कुमारी ने ‘रघुवर तेरी राह निहारे सातों जनम से सिया’ पर शास्त्रीय नृत्य तथा रिया पाठक और जयंती कुमारी ने ‘सजा दो घर को गुलशन-सा अवध में राम आएँ हैं’ गीत की सात्विक प्रस्तुति दी।

इसे भी पढ़े : आजाद भारत में पहली बार किसी महिला को होने जा रही है फांसी, तैयारी शुरू

छात्रा मोनिका कुमारी ने हरियाणवी साँग ’52 गज का दामन’ तथा छात्रा मोनिका मेहता ने ‘घूंघट नहीं खोलूंगी’ साँग पर मंत्रमुग्ध कर देने वाले शास्त्रीय नृत्य की प्रस्तुति दी। छात्रा नमन्या रंजन तथा ईशा शेखर ने ‘छाप-तिलक सब दीनी तोसे नैना मिलाइके’ की लोमहर्षक प्रस्तुति दी। उपस्थित दर्शकों ने तालियां बजाकर छात्राओं का मनोबल बढ़ाया।कार्यक्रम में छात्राऐ कहीं संगीत की ताल पर सखियों संग हंसी ठिठोली की तो कहीं पुराने गीतों को सुनकर अपनी यादों को ताजा करने में जुटी रही। पीली परिधानों में सजी-धजी छात्राओं ने वातावरण को सुहावना बना दिया।

इस अवसर पर प्रधानाचार्य प्रो जावेद अशरफ ने कॉलेज की छात्राओं द्वारा प्रस्तुत गीतों और नृत्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों से प्रतिभागियों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है तथा उनमें सह-शैक्षणिक प्रतिभाओं का विकास होता है। मौके पर डॉ किश्वर जहाँ बेगम, डॉ निर्मला कुमारी, डॉ अफ्शां सुरैया, डॉ शगुफ्ता अंसारी,डॉ जया चौधरी, डॉ नगमा शादाब, डॉ पूजा राय, डॉ अमृता घोष, डॉ अनामिका कुमारी, डॉ शिल्पी बनर्जी सहित दर्शक दीर्घा में बड़ी संख्या में शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारी सहित छात्राएं उपस्थित थे। सांस्कृतिक कार्यक्रम का निर्देशन अंग्रेजी विभाग की सहायक प्राध्यापिका डॉ कुमारी रश्मि प्रियदर्शनी एवं डॉ पूजा ने किया।

गया (बिहार) से अश्वनी कुमार की रिपोर्ट

Leave a Reply

%d bloggers like this: