RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

MP में बड़ी गड़बड़ी, कोरोना वैक्सीन लेने वाले 1 लाख से ज्यादा लोगों का एक ही मोबाइल नंबर

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

कोरोना वायरस से निपटने के दावों के बीच मध्यप्रदेश में टीका लगाने में बड़ी गड़बड़ी सामने आई है. टेस्ट कराने वाले हजारों लोगों के पते तो फर्जी मिले ही हैं, कोरोना टीकाकरण के लिए बने कोविड पोर्टल पर हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स के हजारों नाम एक मोबाइल नंबर पर दर्ज हैं.

नतीजतन कई लोगों को दूसरे डोज की जानकारी ही नहीं मिल पाई. जनवरी में देश की तरह, मध्यप्रदेश में पहली वैक्सीन लगाने के लिये वैक्सीनोत्सव जैसा आयोजन हो गया, लेकिन उसके बाद टीकाकरण अभियान की 11 फरवरी को बनी एनएचएम की रिपोर्ट में पता लगा कि राज्य में टीका लगवाने वाले 1,37,454 कर्मचारियों के मोबाइल नंबर का रिकॉर्ड एक जैसा पाया गया है.

इसे भी पढ़े : ईरानी सेना ने किया नई मिसाइल का सफल परीक्षण, टेंशन में आ सकते हैं अमेरिका-इजराइल

इनमें 83598 स्वास्थ्यकर्मी, नगरीय प्रशासन एवं आवास विभाग के 32422, राजस्व विभाग के 6977, गृह विभाग के 7338 और पंचायती राज विभाग के 119 कर्मचारियों के एक जैसे मोबाइल नंबर मिले हैं. जिलों में इंदौर में 17644, जबलपुर में 11703, भोपाल में 8349 मोबाइल नंबर एक समान पाए गए हैं.

राजेश परमार स्वच्छता प्रभारी हैं, इनके फोन नंबर पर 7 लोगों के नाम दर्ज हैं, इन्हें पहला डोज लग चुका है. ये स्वच्छता प्रभारी हैं, इनके नंबर पर जिनके नाम दर्ज हैं उन्हें अब 17 तारीख को वैक्सीन का पहला डोज लगेगा.

बसंत आगर नगर पालिका में सैनिटेशन इंस्पेक्टर हैं, इनके नंबर पर भी 8 लोगों के नाम दर्ज हैं, उनका कहना है कि कई सफाईकर्मी ऐसे हैं जिनके पास मोबाइल नहीं थे इसलिये उनके नाम के आगे बसंत का ही नंबर लिखा गया.

इसे भी पढ़े : रिहाना ने श्री गणेश के नेकलेस के साथ ट्वीट की टॉपलेस तस्वीर, विवाद बढ़ा

अब दिक्कत ये है कि इसकी वजह से जिसका नंबर दर्ज था उसने मैसेज आने पर टीका लगवा लिया. लेकिन, दूसरे हेल्थ वर्कर टीका लगवाने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते रहे.

Leave a Reply

%d bloggers like this: