RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

50 हजार रूपए प्रतिमाह का जॉब छोड़ खेती को अपनाया,किए जैविक प्रयोग

शासन से मिला सर्वोत्तम कृषक का जिला पुरस्कार

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

दिलीप पंचोली दैनिक चिरंतन खरगोन,  

लगन, दृढ़ इच्छा व मेहनत के बल पर आज भी बड़े से बड़ा और असंभव कार्य को भी संभव कर सकते है। ऐसी ही संभावनाएं खरगोन में चिचली के किसान ने खेती में देखी। अपनी लगन व साहस के भरोसे झारखंड में 50 हजार रूपए प्रतिमाह पाने वाले संजय शर्मा ने खेती की ओर रूख किया और आज उन्हें साहस और खेती में जैविकता को बढ़ावा देने के लिए शासन ने पुरस्कार से भी नवाजा है।

संजय शर्मा बताते है कि खेती में रासायनिक खादों के भरपूर उपयोग से लाभ भी हुआ, लेकिन अब फसलों में कई तरह नई-नई बीमारियां और कीटों का प्रकोप बढ़ने लगा और इसे कंट्रोल करने के लिए मुनाफे से कहीं अधिक खेती की लागत बढ़ने लगी।

इसे भी पढ़े : ईरानी सेना ने किया नई मिसाइल का सफल परीक्षण, टेंशन में आ सकते हैं अमेरिका-इजराइल

आत्मा परियोजना के अधिकारियों द्वारा जैविक खेती के बारे में दो वर्ष पूर्व बताया गया। तभी से ढ़ाई एकड़ में जैविक के प्रयोग किए। पहले गन्ना फिर कपास व गेहूं के साथ जैविक उत्पादन किया और रासायनिक व जैविक में अंतर करने पर पाया कि जैविक खेती करने से लागत कम हो जाती है और मुनाफा की बेहतर होने लगता है।

क्योंकि फसलों में गोबर खाद का उपयोग होने से भूमि की गुणवत्ता में भी निरंतर सुधार देखा गया। इसलिए जैविक खेती ही सर्वोत्तम खेती है। अब पूरी 36 बीघा खेती में जैविक खेती का लक्ष्य रखा है।

पुरस्कार के तौर पर मिलेंगे 50 हजार रूपए

सबमिशन ऑन एग्रीकल्चरल एक्सटेंशन “आत्मा“ द्वारा प्रतिवर्ष कृषि के क्षेत्र में सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार प्रदान किए जाते है। वर्ष 2019-20 के राज्य स्तरीय सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार और सर्वोत्तम आत्मा जिला पुरस्कार 15 फरवरी को घोषित कर दिए है। इसमें खरगोन के संजय शर्मा को भी कृषि के क्षेत्र में चुना गया है।

इसे भी पढ़े : रिहाना ने श्री गणेश के नेकलेस के साथ ट्वीट की टॉपलेस तस्वीर, विवाद बढ़ा

इस पुरस्कार में 50 हजार रूपए प्रदाय किए जाते है। इनके अलावा होशंगाबाद, रतलाम, इंदौर, शिवनी, देवास, गुना, छिंदवाड़ा, रायसेन व नीमच के किसानों को भी पुरस्कार दिए जाएंगे। इसी के अंतर्गत सर्वोत्तम आत्मा जिला पुरस्कार के लिए खंडवा व नीमच को चुना गया है।

प्रतीकात्मक चित्र

Leave a Reply

%d bloggers like this: