RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

25 फरवरी को RBI बेचने जा रहा है ₹10,000 करोड़ के बॉन्ड

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया 25 फरवरी को OMO के जरिए 10 हजार करोड़ रुपए के बॉन्ड खरीदने का प्लान बना रहा है. इस बॉन्ड को खरीदर RBI इसे रिटेल निवेशकों को बेचेगा. ऐसा माना जा रहा है कि इन बॉन्ड्स की खरीदारी से मार्केट में लिक्विडिटी को सपोर्ट मिलेगा.

देश की मौजूदा स्थिति और आर्थिक गतिविधियों को देखते हुए आरबीआई की ओर से यह फैसला लिया गया है. बता दें इससे पहले सेंट्रल बैंक ने भी करीब 20 हजार करोड़ रुपए के बॉन्ड खरीदे हैं.

इसे भी पढ़े : PM मोदी ने अजमेर शरीफ दरगाह के लिए सौंपी चादर, 7वीं बार चढ़ेगी प्रधानमंत्री के नाम की चादर

आपको बता दें इन बॉन्ड्स के जरिए RBI सरकार को फंड उपलब्ध कराती है. देशभर में फैली महामारी के बीच सरकार ने कई राहत पैकेज का ऐलान किया. इसके साथ ही आगे देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए RBI फंड जुटाने में लगी हुई है.

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले दिनों कहा था कि वह सरकार को 12 लाख करोड़ रुपए का फंड मुहैया करा सकते हैं, जिससे सरकार के बॉरोइंग प्रोग्राम को काफी मदद मिलेगी. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, आरबीआई आगे भी सरकार को यह मदद जारी रखेगा.

सरकारी बॉन्ड्स एक डेट इंस्ट्रूमेंट हैं, जिसको खरीदा और बेचा जाता है. केंद्र और राज्य सरकार की ओर से इसे जारी किया जाता है. इसके अलावा लिक्विडिटी क्राइसिस की स्थिति में इन बॉन्ड की जरूरत होती है, जिसके जरिए सरकार बाजार से पैसे जुटाती है.

इसे भी पढ़े : पलक झपकते ही दुश्मनों को खाक में मिलाने वाली मिसाइल अस्त्र का परीक्षण करेगा भारत

परेशानी के समय में इन बॉन्ड्स को जारी करके पैसे जुटाए जाते हैं. बता ये बॉन्ड शॉर्ट और लॉन्ग दोनों समय के लिए जारी किए जाते हैं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: