शिक्षामंत्री चंद्रशेखर का बयान निंदनीय

उज्जैन। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश सचिव सौरभ भारद्वाज ने कहा कि बिहार के शिक्षामंत्री चन्द्रशेखर द्वारा तुलसी रामचरित मानस को सामाजिक विभेद एवं समाज में घृणा फैलाने वाली कहना उनकी विकृत पंगु मानसिकता को परिलक्षित करता है, जो कि घोर निंदनीय है।
आपने बताया कि रामचरित मानस में 12800 पक्तियाँ, 1079 दोहे ये सात खण्डों में विभक्त है जो कि हिन्दी साहित्य का सर्वोत्तम महाकाव्य है तथा प्रत्येक हिन्दू के लिए पूज्य हैं, ऐसे ग्रन्थ के प्रति दुर्भावना व्यक्त करना अक्षम्य है। आपने बताया कि जिस मानस में राम को निर्गुण चेतना निरूपित किया गया है, जो संसार में व्याप्त है और साथ ही हममें भी आत्मस्वरूप की तरह विधमान है तथा रामचरित मानस उदारता, अन्तकरण की विशालता एवं भारतीय आदर्श की साकार प्रतिमा की साक्षी है, जो विश्वभर में आलौकिक, असाधारण, अनुपम, अद्भभुत धर्म व नैतिकता की दृष्टि से सर्वोत्तम है।
अत: आपने कहा कि बिहार के शिक्षामंत्री को चाहिए कि हिन्दू समाज की धार्मिक भावनाओं को आघात एवं ठेस पहुंचाने वाले अपने बयान पर माफी मांगे।

Leave a Reply

Must Read

%d bloggers like this: