RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

8 दिवसीय मल्लखम्ब प्रशिक्षण शिविर का हुआ शुभारंभ


उज्जैन।
8 दिवसीय मल्लखम्ब योग शिक्षण एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम लेवल-1 का शुभारंभ माधव सेवा न्यास भारत माता मंदिर परिसर में हुआ। शुभारंभ अवसर पर मल्लखम्ब के नन्हे एवं किशोर खिलाड़ियों द्वारा व्यक्तिगत मल्लखम्ब, रोप मल्लखम्ब एवं हेंगिंग मल्लखम्ब का प्रदर्शन किया गया।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव थे। अध्यक्षता अनिल ओंक अ.भा. सह. व्यवस्था प्रमुख रा. स्व. संघ केन्द्र कानपुर ने की। विशेष अतिथि किशोरी शरण श्रीवास्तव बैंक सेवा निव्रत और वर्तमान कोषाध्यक्ष अ.भा. मल्लखम्ब एसो., विजय केवलिया कुटुम्ब प्रबोधन संयोजक रा. स्व. संघ मालवा प्रांत एवं अध्यक्ष माधव सेवा न्यास उज्जैन, ओमप्रकाश हारोड़ खेल अधिकारी रहे। विपिन आर्य ने कार्यक्रम की रूपरेखा रखी एवं माधव सेवा न्यास द्वारा किये जा रहे सामाजिक, आध्यात्मिक एवं सेवा कार्यो की जानकारी दी।

इसे भी पढ़े : पिक अप उपर चांवल के कट्टे नीचे भरे थे गौवंश

राष्ट्रीय मल्लखम्ब फेडरेशन के कोषाध्यक्ष श्रीवास्तव ने बताया कि इस 8 दिवसीय शिविर में विघार्थियों, शिक्षकों एवं प्रशिक्षकों की शिक्षण प्रशिक्षण दिया जाएगा जो मल्लखम्ब विधा को प्रदेश एवं देश में आगे बढ़ायेंगे।

द्रोणाचार्य अवार्ड प्राप्त मल्लखम्ब प्रशिक्षक योगेश मालवीय एवं मल्लखम्ब खिलाड़ी फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. अनुराग आचार्य के निर्देशन में इनडोर मल्लखम्ब एवं फिटनेश व्यायाम का प्रदर्शन किया गया। मुख्य अतिथि मोहन यादव ने अपने उद्बोधन में मल्लखम्ब जैसे प्राचीन खेल को कम संसाधनों में आधुनिक तरीके से बढ़ावा देने के लिए योगेश मालवीय एवं माधव सेवा न्यास को बधाई दी। आपने मल्लखम्ब को प्रदेश एवं देश में न. 1 खेल बनाने के लिए म.प्र. शासन से सहयोग का आश्वासन दिया।

इसे भी पढ़े : दक्ष‍िणी वजीरिस्‍तान में विद्रोहियों का हमला, 4 पाकिस्तानी सैनिकों की मौत

प्रदेश के 200 महाविद्यालयों में मल्लखम्ब को पंहुचाने का प्रयास करेंगे। अध्यक्षीय उदबोधन में अनिल ओंक ने बताया कि मल्लखम्ब मे मानसिक एवं शारीरिक संतुलन का समन्वय है जो कि योग के लिए एक आवश्यक तत्व है। इसमें आसन से उर्जा ग्रहण होती है जो कि आधुनिक जिम व व्यायाम में नही होती है। मल्लखम्ब इन सब विधाओं का योग है। आपने विश्वास दिलाया कि मल्लखम्ब निश्चित रूप से ओलंपिक में शामिल होगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: