अनंत 36 साल के थे. परिवार में अब उनकी 7 साल की बेटी और पत्नी हैं.

Live Radio


अनंत 36 साल के थे. परिवार में अब उनकी 7 साल की बेटी और पत्नी हैं.

Bhopal. पी-305 बार्ज सोमवार शाम को ताऊ ते तूफान में फंसने के बाद मुंबई तट से कुछ दूर अरब सागर में डूब गया था. बार्ज पी-305 पर मौजूद 261 लोगों में 49 की मौत हो चुकी है. कई कर्मचारी अभी लापता हैं.

उज्जैन. तूफान ताऊ ते की चपेट में आकर मुंबई (Mumbai) के नज़दीक अरब सागर में डूबे जहाज बार्ज पी – 305 पर सवार जिन लोगों की मौत हुई उनमें उज्जैन के अनंत कारपेंटर भी शामिल हैं. वो ईआईएल (इंजीनिरिंग इंडिया लिमिटेड) में बार्ज पी-305 जहाज पर बतौर मैकेनिकिल इंजीनियर तैनात थे. परिवार में अनंत की 7 साल की बेटी और पत्नी हैं. सोमवार को आए ताऊ ते तूफ़ान के कारण तीन राज्यों में भारी नुकसान हुआ. लेकिन सबसे बड़ी जन हानि मुंबई से करीब 100 किमी दूर हुई. तूफान की चपेट में जहाज बार्ज पी – 305 आ गया. अनंत उसी जहाज में बतौर मैकेनिकल इंजीनियर अपनी सेवा दे रहे थे. भाई ने बताया भाई आशु पटेल ने बताया कि अनंत भारत सरकार की ईआईएल ( इंजीनिरिंग इंडिया लिमिटेड) में मैकिनकिल इंजीनियर के पद पर बार्ज पी-305 जहाज में पदस्थ थे.अधिकारियों ने परिवार को जानकारी दी कि जब जहाज डूबने लगा तब कप्तान ने सभी को जहाज छोड़ने का आदेश दिया. घबराकर सभी लोग समुद्र में कूद गए. नौसेना का जहाज जब तक डूब रहे कर्मचारियों को बचाने पहुंचा तब तक अनंत सहित कई लोगों की मौत हो चुकी थी. घंटों बाद अनंत का शव भी मिल गया. उज्जैन में एमपीईबी में काम करने वाले अनंत के छोटे भाई आशु कारपेंटर को उनकी मौत की सूचना दी गयी. खबर मिलते ही अनंत की 7 साल की बेटी माला और पत्नी और छोटा भाई आशु मुंबई रवाना हो गए.एक मैसेज उस तूफान के कारण अरब सागर में जो हादसा हुआ उसका ज़िक्र मयंक ऐरन के इस मैसेज में है. मयंक भी उसी जहाज पर तैनात थे. ‘मेरी जानकारी के अनुसार जहाज को छोड़ दें (जो कि आखिरी से आखिरी घोषणा है) कप्तान द्वारा रात 11 बजे के आसपास दिया गया आदेश. AFCON QC टीम के साथ हमारे सभी 3 कर्मचारी लाइफ जैकेट पहनकर एक साथ समुद्र में कूद गए और एक दूसरे के दोनों हाथों को पकड़कर एक घेरा बना लिया (जो अलग होने से बचने के लिए समुद्र में तैरने की एक सामान्य प्रक्रिया है). उनमें से एक साथी अर्जुन तुरंत बेहोश हो गया और नीचे चला गया. फिर कुछ घंटों के बाद हमारे अनंत ने कहा वह दर्द के कारण हाथ नहीं पकड़ सकता और वह सर्कल से अलग हो गया. लेकिन सौरब जैन अगली सुबह 11 बजे तक टीम के संपर्क में थे. उन्हें बचाने के लिए कुछ आते हुए दिखाई दे रहे थे. लेकिन दुर्भाग्य से कुछ देर में पानी की भयानक ऊंची लहरों में सौरभ भी गायब हो गए. ये मैसेज AFCON के एक Qc कर्मी का है जिसे आईएनएस कोच्चि ने बचाया है. दुखद मैसेज
अगला मैसेज आया जिसमें लिखा था ‘एक और दुखद खबर – जीईसीयू के सभी 3 पूर्व छात्र, हमारे सदस्यों ने ताऊ ते के कारण हुई पी-305 बार्ज दुर्घटना में जान गंवा दी. अनंत कारपेंटर, ईआईएल सीनियर मैनेजर, सौरभ जैन – CEIL mech, अर्जुन – सीईआईएल. तीनों के शव मिल गए हैं.

ताऊ ते का कहर पी-305 बार्ज सोमवार शाम को ताऊ ते तूफान में फंसने के बाद मुंबई तट से कुछ दूर अरब सागर में डूब गया था. इस पर सरकारी कंपनी ओएनजीसी के अपटतीय तेल खनन प्लेटफॉर्म के रखरखाव के काम में लगा स्टाफ मौजूद था. बार्ज पी-305 पर मौजूद 261 लोगों में 49 की मौत हो चुकी है. अभी भी कई लोग लापता हैं जिन्हें खोजने के लिए नौसेना और तटरक्षक बल का तलाश एवं बचाव अभियान जारी है.







Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker