RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

कोविड के 5000 सैंपल लेने वाला लड़ रहा जिंदगी की जंग दोनों किडीनीयां हो गई खराब

सुसनेर अस्पताल का टेक्नीशियन की हालत भी गंभीर

सुसनेर से यूनुस खान लाला की रिपोर्ट चिरंतन न्यूज़ के लिए

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

सुसनेर अस्पताल का टेक्नीशियन भी गंभीर कॉविड के 5000 सैंपल लेने वाला कोरोनावायरस लड़ रहा जिंदगी की जंग दोनों किडीनीयां हो गई खराब ।


करोना की पहली में सुसनेर क्षेत्रों में करीब 5000 के लगभग कोविट  के सैंपल लेने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लैब टेक्नीशियन के तौर पर कार्यरत 40 वर्षीय महेंद्र सूत्रकार इन दिनों हाइपरटेंशन की वजह से कीटनिया खराब होने की वजह से डायलिसिस पर होकर  जििंदगी की जंग लड़ रहे हैं ।

इसे भी पढ़ें : गर्मी के दिनों में कभी भी इतनी मौतें नहीं हुई :मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रवक्ता तिवारी।

इन्होंने कोरोना काल में अपनी जान की परवाह ना करते हुए वर्ष 2020 में सबसे पहले जोखिम उठाकर ग्राम पायली में कोरोना संक्रमित मरीज की और उसके परिवार जनों की कोविट  सैंपल  लेकर उन्हें बचाने की कोशिश की थी जो कि उसमें सफल भी रहे ।उसके बाद से ही महेंद्र सूत्रकार लगातार क्षेत्र में कोरोना संक्रमित मरीजों के सैंपल पीपीआई किट पहन कर लेते रहे साथ ही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज के लिए आने वाले मरीजों के सैंपल लेकर उनकी भी जांच करते रहे ।

सुसनेर तहसील में यह इकलौते अधिकृत शासकीय लैब टेक्नीशियन है । हजारों लोगों की कोविट सैंपल  लेकर उनकी जान बचाने वाला आज खुद अपनी जान बचाने के प्रयासों मेंं  जुठा हुआ है । कोविड-19 में अत्याधिक काम करने के कारण शहर के महेंद्र सूत्रकार हाइपरटेंशन के चलते उच्च रक्तचाप के शिकार हो गए । इस दौरान 1 दिन की छुट्टी लेकर अपना इलाज करा कर वापस अपने कार्यस्थल पर चले आए ।

मार्च 2021 में महेंद्र सूत्रकार को पता चला कि खुद के कारण ही उनके शरीर का क्रिटिनिन लेवल 9% हो गया है ।जिसके बाद उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र  में  सैंपल लेने के लिए एक एनएमए को  ट्रेनिंग दी तथा उसे सही तरीके से प्रशिक्षण देकर सैंपल लेना सिखाया । महेंद्र सूत्रकार इंदौर के किडनी विशेषज्ञ डॉ नरेश पाहवा से अपना इलाज करवा रहे हैं । उन्हें सप्ताह में दो से तीन बार डायलिसिस करवाना पड़ रहा है।

सबसे अधिक कार्य कोरोना काल में किया —

महेंद्र सूत्रकार ने हमारे संवाददाता को बताया कि 2007 में उन्होंने पहली बार लैब टेक्नीशियन की नौकरी 26 वर्ष की उम्र में शुरू की थी , उनकी नौकरी को 14 वर्ष हो चुके हैं । लेकिन इन वर्षों में सबसे अधिक कार्य उन्होंने कोरोना काल के दौरान किया । कोविट सैंपल के साथ साथ अस्पताल की लैब मैं भी मरीजों की लगातार जांच की जिसकी वजह से वह हाइपरटेंशन का शिकार हो गए और आज उनकी दोनों किटनीया खराब हो चुकी है ।जिसके चलते हुए वे डायलिसिस पर हैं । इनके परिवार में उनकी पत्नी के अलावा दो बच्चे भी हैं।


इनका कहना

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लैब टेक्नीशियन के तौर पर कार्यरत महेंद्र सूत्र कार कार्य की अधिकता के चलते हाइपरटेंशन का शिकार होकर आज डायलिसिस पर है । क्षेत्र में कोविंट के 5000 सैंपल लेने वाला हमारा कोरोना योद्धा आज जिंदगी की जंग लड़ रहा है । इस संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दी गई है साथ ही शासकीय तौर पर जो भी कुछ हो सकता है वह करने के प्रयास किए जा रहे हैं । 

डॉ मनीष कुरील ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सुसनेर

Leave a Reply

%d bloggers like this: