RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

भारत की अव्वल श्रेणी की कम्पनीज में दर्ज कराया अपना नाम; पीआर 24×7 ने सदस्यों को बनाया प्रॉफिट का हिस्सेदार ।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

15 वर्षों के इतिहास में कंपनी ने कभी भी सदस्यों से एम्प्लॉयीज की तरह व्यवहार नहीं किया

इंदौर, फरवरी, 2021: कुछ ही कम्पनीज होती हैं, जो अपने एम्प्लॉयीज को परिवार के सदस्यों की तरह मानती हैं, यद्यपि मानती ही नहीं बल्कि उनके मान-सम्मान का भी खास ख्याल रखती हैं। इसका जीता-जागता उदाहरण बन गई है भारत की प्रमुख पब्लिक रिलेशन्स कम्पनीज में से एक पीआर 24×7।

दरअसल कंपनी ने अपने स्थापना दिवस को खुशनुमा यादों में शुमार करने के साथ ही इसके सदस्यों को बेहद अनूठा उपहार दिया है, जिसके अंतर्गत कंपनी ने अपने प्रॉफिट का थोड़ा बहुत नहीं, बल्कि 20% हिस्सा इसके सदस्यों के नाम किया है। इसकी घोषणा पीआर 24×7 के पन्द्रहवें स्थापना दिवस पर की गई। 

   
पीआर 24×7 के फाउंडर, अतुल मलिकराम बताते हैं कि अपने 15 वर्षों के इतिहास में कंपनी ने कभी भी सदस्यों से एम्प्लॉयीज की तरह व्यवहार नहीं किया, यहाँ तक कि उन्हें ऑफिस परिसर में इस नाम से पुकारा भी नहीं जाता है। कंपनी इन्हें परिवार के सदस्यों के नाम से ही सम्बोधित करती है। यह अटल सत्य है कि सदस्य अपनी कंपनी का कंधे से कंधा मिलाकर चलने के साथ ही इसे आगे बढ़ाने में अमिट योगदान देते हैं। ऐसे में कंपनी का भी कर्तव्य बनता है कि अपने सदस्यों के समर्पण को व्यर्थ न जाने दे। इस हेतु कंपनी अपने प्रॉफिट का 20% हिस्सा, पाँच वर्षों तथा उससे अधिक समय से साथ कदम बढ़ाते आ रहे सदस्यों के नाम कर रही है, जो व्यावसायिक वर्ष की शुरुआत यानि 1 अप्रैल 2021 से सदस्यों के हित में जीवनभर के लिए लागू किया जाएगा।

कंपनी का नाम तब उच्च श्रेणी के दर्जे पर पहुंच जाता है, जब यह अपने प्रॉफिट का हिस्सा उन सदस्यों के साथ भी शेयर करने के लिए प्रतिबद्ध होती है, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से अब कंपनी का हिस्सा नहीं हैं। लेकिन उनके कार्य को कंपनी आज तक नहीं भूली और दूर होने के बाद भी उन्हें अपने परिवार का हिस्सा मानती है। यह खासियत इसे भीड़ से अलग करके देश की प्रमुख कम्पनीज में से एक के रूप में अव्वल स्थान देती है।   


 
परोपकार और उदारता के नक्शे-कदम पर अग्रसर होती कंपनी इसके सदस्यों के लिए हमेशा ही कुछ नया करने की दिशा में आगे को बढ़ती है। कुछ कम्पनीज अपने नाम को ब्रांड के रूप में स्थापित करने में विश्वास करती हैं। जबकि कुछ कम्पनीज अपने सदस्यों के कार्यों को प्राथमिकता से लेकर इन कार्यों के द्वारा बढ़ाए गए कंपनी के नाम को उजागर करने की दिशा में कार्य करती हैं। इसी के जीवंत उदाहरण के रूप में पीआर 24×7 ने देश की चुनिंदा कम्पनीज की सूची ने अपना नाम अव्वल श्रेणी में दर्ज किया है, जो अपने कमाए हुए प्रॉफिट का दावेदार अपने परिवार के सदस्यों को मानती है और जीवन भर उन्हें साथ लेकर चलने का जस्बा अपने में लेकर चलती है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: