Swami Vivekananda Death Anniversary: स्वामी विवेकानंद ने पहले ही कर दी थी अपनी मृत्यु की भविष्यवाणी, जानिए कुछ अनसुनी बातें


आज ही के दिन यानी की 04 जुलाई को स्वामी विवेकानंद का निधन हो गया था। स्वामी विवेकानंद ने बहुत कम समय में कई ऐसे काम किए थे, जिनसे आज भी लोग प्रेरणा लेते हैं। उनके पूरे जीवन को देखा जाए, तो ऐसा लगता है कि वह एक उद्देश्य के साथ जन्मे थे और जब उस उद्देश्य की पूर्ति हो गई, तो उन्होंने अपनी देह का त्याग कर दिया। बताया जाता है कि स्वामी विवेकानंद ने अपनी मौत की पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी। आइए जानते हैं उनकी डेथ एनिवर्सरी के मौके पर स्वामी विवेकानंद के जीवन से जुड़ी कुछ रोचक बातों के बारे में…

जन्म 

पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में 12 जनवरी 1863 को स्वामी विवेकानंद का जन्म हुआ था। राजस्थान के खेतड़ी के राजा अजित सिंह ने उनको विवेकानंद नाम दिया था। उनके बचपन का नाम नरेंद्रनाथ दत्त था। वह बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई में काफी होशियार थे। स्वामी विवेकानंद ने गुरू श्रीरामकृष्ण परमहंस से प्रेरित होकर उन्होंने महज 25 साल की उम्र में सांसारिक मोह माया का त्याग कर दिया। 

Advertisment 
--------------------------------------------------------------------------
क्या आप भी फोन कॉल पर ऑर्डर लेते हुए थक चुके हैं? अपने व्यापार को मैन्युअली संभालते हुए थक चुके हैं? आज के महंगाई भरे समय में आपको सस्ता स्टाफ और हेल्पर नहीं मिल रहा है। तो चिंता किस बात की?

अब आपके लिए आया है एक ऐसा समाधान जो आपके व्यापार को आसान बना सकता है।

समाधान:
अब आपके साथ एस डी एड्स एजेंसी जुडी है, जहाँ आप नवीनतम तकनीक के साथ एक साथ में काम कर सकते हैं। जैसे कि ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त करना, ऑनलाइन भुगतान प्राप्त करना, ऑनलाइन बिल जनरेट करना, ऑनलाइन लेबल जनरेट करना, ऑनलाइन इन्वेंट्री प्रबंधन करना, ऑनलाइन सीधे आपके नए आगमनों को सोशल मीडिया पर ऑटो पोस्ट करना, ऑनलाइन ही आपकी पूरी ब्रांडिंग करना। आपके स्टोर को ऑनलाइन करने से आपके गैर मौजूदगी के समय में भी लोग आपको आर्डर कर पाएंगे। आपका व्यापार आपके सोते समय भी रॉकेट की तरह दौड़ेगा। गूगल पर ब्रांडिंग मिलेगी, सोशल मीडिया पर ब्रांडिंग मिलेगी, और भी बहुत सारे फायदे मिलेंगे आपको! 🚀

ई-कॉमर्स प्लान:
मूल्य: 40,000 रुपये
50% छूट: 20,000 रुपये
ईएमआई भी उपलब्ध है
डाउन पेमेंट: 5,000 रुपये
10 ईएमआई में 1,500 रुपये
साथ ही विशेष गिफ्ट कूपन

अब आज ही बुकिंग कीजिए और न्यूज़ पोर्टल्स में विज्ञापन प्लेस करने के लिए आपको 10,000 रुपये का पूरा गिफ्ट कूपन दिया जा रहा है! इसे साल भर में हर महीने 10,000 रुपये के विज्ञापन की बुकिंग के लिए 10 महीने तक उपयोग कर सकते हैं।

अब तकनीकी की मदद से अपने व्यापार को नई ऊँचाइयों तक ले जाइए और अपने व्यापार को बढ़ावा दें! 🌐
अभी संपर्क करें - 📲8109913008 कॉल / व्हाट्सप्प और कॉल ☎️ 03369029420


 

आध्यात्मिक जीवन

उन्होंने अपना पूरा जीवन आध्यात्म और हिंदुत्व के प्रचार प्रसार में लगा दिया। जब विवेकानंद सन्यासी बनें, तो वह ईश्वर की खोज में निकल पड़े। आध्यात्म की राह पर चलने के बाद उन्होंने विश्व को हिंदुत्व और आध्यात्म का ज्ञान दिया। एक बार जब स्वामी विवेकानंद रेलवे स्टेशन पर थे, तो उन्होंने अयाचक व्रत किया हुआ था। यह ऐसा व्रत होता है, जिसमें किसी से मांगकर नहीं खाया जाता है। व्रत खत्म होने के बाद भी वह किसी से कुछ मांगकर नहीं खाया। तब उनके पास बैठा एक व्यक्ति उनको चिढ़ाने का प्रयास करता है और उनके सामने खाना शुरूकर दिया था। वह बार-बार स्वामी के सामने पकवान की तारीफ करने लगा। उस दौरान वह ध्यान की मुद्रा में बैठे थे और अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस को याद कर रहे थे।

ऐसे मिला भोजन

उस दौरान दोपहर का समय था और उस दौरान नगर के ही एक शख्स को भगवान राम ने दर्शन दिया था। उन्होंने कहा कि रेलवे स्टेशन पर मेरा भक्त आया है, उसका व्रत है और उसे तुमको भोजन कराना है। पहले तो सेठ को यह भ्रम लगा। लेकिन जब सेठ सोता है तो भगवान उसको दोबारा दर्शन देते हैं और भगवान को भोजन कराने के लिए कहते हैं। इसके बाद वह सेठ स्टेशन जाता है और संत के भेष में बैठे स्वामी विवेकानंद को प्रणाम कर पूरी घटना बताते हैं। सेठ स्वामी विवेकानंद से कहता है कि उनके कारण भगवान ने उसे दर्शन दिए। स्वामी विवेकानंद सोचते हैं कि वह तो अपने मन में गुरु को याद कर रहे थे। इसके बाद सेठ स्वामी विवेकानंद को भोजन कराता है और उनका व्रत पूरा होता है।

शिकागो यात्रा

स्वामी विवेकानंद से अपने कार्यों से पूरे विश्व में भारत का डंका बजाया था। बता दें कि 11 सितंबर 1893 स्वामी विवेकानंद ने अमेरिका के शिकागो शहर में आयोजित धर्म संसद में भाषण दिया था। इस भाषण की शुरूआत उन्होंने ‘अमेरिकी भाई और बहनों से की थी’। उन्होंने कहा था कि मेरे भाइयों और बहनों मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे देश से हूं, जिस धरती ने सभी देशों व धर्मों के सताए लोगों को अपने यहां पर शरण देने का काम किया।

मृत्यु की भविष्यवाणी

बताया जाता है स्वामी विवेकानंद ने कई बार अपने शिष्यों से कहा था कि वह 40 साल से अधिक जीवित नहीं रहेंगे। हालांकि कहा जाता है कि उनका किसी बीमारी से निधन हुआ था। लेकिन अपनी मृत्यु से पहले स्वामी ने अपने एक शिष्य पत्र लिखकर उसे देखने की इच्छा जाहिर की थी। उन्होंने पत्र में इस बात का भी जिक्र किया था कि वह दो महीने में मृत्यु के मुंह में जा रहे हैं। जिसके बाद स्वामी विवेकानंद ने 04 जुलाई 1902 को बेलूर मठ में समाधि ली थी।



Source link


Discover more from सच्चा दोस्त न्यूज़

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours

Leave a Reply