RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

कालिदास स्कूल के खिलाफ हुए पालकों के बयान


नर्सरी से पांचवी तक के बच्चों की ऑनलाईन क्लास भी नहीं लगी,

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

पर स्कूल को फीस पूरी चाहिये, 12वीं तक के बच्चों की 40 मिनिट की क्लास


उज्जैन। कालिदास स्कूल बम्बाखाना द्वारा ट्यूशन फीस के नाम पर मांगी जा रही पूरी फीस के मामले में एक बार फिर जिला शिक्षा अधिकारी को की गई शिकायत के बाद जांच अधिकारी के समक्ष पालकों के बयान हुए। वहीं कालिदास स्कूल द्वारा भी जवाब दिया गया जिसमें कहा कि प्रबंधन ने वर्ष के प्रारंभ में लगने वाली फीस माफ कर दी है, इस मामले में पालकों ने जांच अधिकारी को बताया कि यह तो वह फीस है जो हर वर्ष कालिदास स्कूल एडमिशन के नाम पर वसूलता है। पालकों ने पिछले वर्ष का तथा इस वर्ष का फीस कार्ड भी बताया जिसपर एक ही फीस दर्ज थी। स्कूल ने पूरी फीस को ही ट्यूशन फीस का नाम दे दिया।

इसे भी पढ़े : बरेली में स्टेशन मास्टर की मौत पर मिलेगा 54 लाख का मुआवजा,


जांच अधिकारी मुकेश त्रिवेदी के समक्ष पालक राम शर्मा तथा जितेन्द्र जोशी ने समस्त पालकों की ओर से कहा कि नर्सरी से पांचवी तक के बच्चों की तो पूरे वर्ष ऑनलाईन क्लास भी नहीं लगी उनकी पूरी फीस कैसे ले सकते हैं। वहीं छटी से 12वीं तक के बच्चों की 40 मिनिट की ऑनलाईन क्लास का पूरा शुल्क वसूला जा रहा है। 5 घंटे स्कूल संचालन में जो खर्च आता है, वह पूरा बच रहा स्कूल का, लेकिन पालकों से पूरी फीस वसूली जा रही है।

स्कूल द्वारा प्रतिवर्ष नियम के विरूध्द एडमिशन फीस वसूली जाती है जो इस बार नहीं लेकर ऐसा प्रचारित किया जा रहा है कि स्कूल ने फीस माफ की है जबकि कालिदास स्कूल ने एडमिशन फीस कोराना काल में नहीं ली, फीस तो वह पूरी पालकों से वसूल रहा है। पालकों ने कहा कि कोरोना काल में कई परिवारों की स्थिति अब तक संभल नहीं पाई है, कई परिवार के 2 से 3 बच्चे स्कूल में पढ़ते हैं वे पूरी फीस कैसे दे पायेंगे। वहीं स्कूल प्रबंधन द्वारा फीस भरने के लिए दबाव डाला जा रहा है, स्कूल ने स्पष्ट कह दिया है कि पढ़ाना है तो ठीक अन्यथा अपने बच्चों की टीसी ले जाओ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: