डीप वेन थ्रोम्बोसिस से बचने के लिए रोजाना कम से कम आधे घंटे टहलना बहुत ही जरूरी है. Image-shutterstock.com

Live Radio



डीवीटी (DVT) के लगभग 10 फीसदी मरीजों की नसों में बनने वाली क्लॉटिंग का फेफड़ों (Lungs) में जाकर फंसने का खतरा रहता है. इसे पल्मोनरी एम्बोजिल्म कहते हैं. इससे फेफड़ों को ऑक्सीजन (Oxygen) नहीं मिलती और ऐसे में मरीज की जान भी जा सकती है.



Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

COVID-19 Tracker