Lifestyle: माता-पिता की गलतियां बच्चों के भविष्य पर पड़ता “नकारात्मक प्रभाव”



Lifestyle: बचपन की यादें हमेशा ही खास होती हैं. छोटी-छोटी बातें, माँ-बाप की सजगता और उनके संबंध में छिपी हर बात. लेकिन क्या होता है. जब माँ-बाप की सजगता में कमी आती है और उनकी गलतियां बच्चे के भविष्य को प्रभावित करने लगती हैं? माता-पिता का अच्छा व्यवहार बच्चे के विकास में महत्वपूर्ण होते हैं. जिम्मेदार पेरेंट्स अक्सर अपने बच्चों के भविष्य के बारे में सोचते हैं और उन्हें सही राह दिखाने की कोशिश करते हैं. लेकिन कई बार उनकी भावनाओं, इंसानी भूलों और समय की कमी के कारण वे गलतियां कर देते हैं जो बच्चे के लिए हानिकारक साबित होते हैं. इसलिए, माता-पिता को बच्चों के साथ सही संबंध बनाए रखने के लिए समय और समझ दोनों की जरूरत होती है. वे उनके स्वार्थिक दृष्टिकोण को समझने और उन्हें सही मार्ग पर ले जाने के प्रयास करें ताकि बच्चे अपने पूरे पोटेंशियल को समझ सकें और खुद को समर्थ महसूस कर सकें.

अति भोग

जब माता-पिता अपने बच्चों को बहुत सारे खिलौनों देते हैं, तो यह उनके विकास पर बुरा प्रभाव डाल सकता है. बच्चों की पढ़ाई इससे प्रभावित हो सकती है क्योंकि उन्हें उनके अध्ययन के लिए पर्याप्त समय नहीं मिलता. इसके अलावा, सामाजिक संवाद की क्षमता भी प्रभावित हो सकती है, इसकी वजह माता-पिता को बच्चों को वक्त देना चाहिए.

Also Read: Beauty Tips : ओपन पोर्स के कारण कम हो गई है खूबसूरती, नेचुरल मास्क देगा निखार

Advertisment 
--------------------------------------------------------------------------
क्या आप भी फोन कॉल पर ऑर्डर लेते हुए थक चुके हैं? अपने व्यापार को मैन्युअली संभालते हुए थक चुके हैं? आज के महंगाई भरे समय में आपको सस्ता स्टाफ और हेल्पर नहीं मिल रहा है। तो चिंता किस बात की?

अब आपके लिए आया है एक ऐसा समाधान जो आपके व्यापार को आसान बना सकता है।

समाधान:
अब आपके साथ एस डी एड्स एजेंसी जुडी है, जहाँ आप नवीनतम तकनीक के साथ एक साथ में काम कर सकते हैं। जैसे कि ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त करना, ऑनलाइन भुगतान प्राप्त करना, ऑनलाइन बिल जनरेट करना, ऑनलाइन लेबल जनरेट करना, ऑनलाइन इन्वेंट्री प्रबंधन करना, ऑनलाइन सीधे आपके नए आगमनों को सोशल मीडिया पर ऑटो पोस्ट करना, ऑनलाइन ही आपकी पूरी ब्रांडिंग करना। आपके स्टोर को ऑनलाइन करने से आपके गैर मौजूदगी के समय में भी लोग आपको आर्डर कर पाएंगे। आपका व्यापार आपके सोते समय भी रॉकेट की तरह दौड़ेगा। गूगल पर ब्रांडिंग मिलेगी, सोशल मीडिया पर ब्रांडिंग मिलेगी, और भी बहुत सारे फायदे मिलेंगे आपको! 🚀

ई-कॉमर्स प्लान:
मूल्य: 40,000 रुपये
50% छूट: 20,000 रुपये
ईएमआई भी उपलब्ध है
डाउन पेमेंट: 5,000 रुपये
10 ईएमआई में 1,500 रुपये
साथ ही विशेष गिफ्ट कूपन

अब आज ही बुकिंग कीजिए और न्यूज़ पोर्टल्स में विज्ञापन प्लेस करने के लिए आपको 10,000 रुपये का पूरा गिफ्ट कूपन दिया जा रहा है! इसे साल भर में हर महीने 10,000 रुपये के विज्ञापन की बुकिंग के लिए 10 महीने तक उपयोग कर सकते हैं।

अब तकनीकी की मदद से अपने व्यापार को नई ऊँचाइयों तक ले जाइए और अपने व्यापार को बढ़ावा दें! 🌐
अभी संपर्क करें - 📲8109913008 कॉल / व्हाट्सप्प और कॉल ☎️ 03369029420


 

Also Read: Home and Lifestyle: मानसून आते ही कूलर एसी बंद, पैक करने से पहले ऐसे करें सफाई

Also Read: Baby boy names based on Lord Jagannath: भगवान जगन्नाथ के नाम पर रखें अपने लल्ला का नाम, यहां देखें बच्चों के यूनिक नाम और अर्थ

अनुशासन की कमी

जब माता-पिता अपने बच्चों के प्रति अनुशासन में कमी दिखाते हैं, तो इससे उनके बच्चे नियमों को समझने और उनका पालन करने में कठिनाई महसूस कर सकते हैं. अनुशासन की कमी उनकी स्वतंत्रता और समय प्रबंधन की क्षमता पर भी असर डाल सकती है, क्योंकि उन्हें सही और गलत के बीच अंतर समझाने के लिए सही मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है.

अनुभूति शिक्षा की कमी

जब माता-पिता केवल अपने बच्चों को अच्छे अंकों की प्रेरणा देते हैं, तो यह उनकी अनुभूति शिक्षा की कमी का कारण बन सकता है. अनुभूति शिक्षा की कमी से बच्चे समस्याओं को समाधान करने और नई चुनौतियों का सामना करने की क्षमता में कमजोरी महसूस कर सकते हैं. उन्हें वास्तविक जीवन में आगामी समस्याओं का सामना करने के लिए समर्थन और गाइडेंस की आवश्यकता होती है, जिससे उनमें चुनौतियों का सामना और समस्याओं को समझने की क्षमता विकसित हो सके.

Also Read: Bajaj ने सपने को हकीकत में बदला, कल लॉन्च होगी दुनिया की पहली CNG बाइक

परिणामों पर ज्यादा ध्यान

जब माता-पिता सिर्फ अपने बच्चे के परिणामों पर ही ज्यादा ध्यान देते हैं, तो बच्चे में अपनी स्वाभाविक प्रतिस्पर्धा के लिए अनावश्यक दबाव महसूस हो सकता है. इससे उनकी चिंता और तनाव बढ़ सकते हैं, क्योंकि उन्हें अपने माता-पिता की उम्मीदों और प्रत्येक परीक्षा या परिक्षा में अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए अधिक दबाव महसूस होता है. इससे उनका स्वतंत्रता और रुचि के क्षेत्र में निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित हो सकती है.

समय की कमी

जब माता-पिता अपने बच्चे के साथ समय बिताने में संकोच करते हैं, तो इससे उनके भविष्य में उत्कृष्ट संबंध नहीं बन पाते. बच्चे को अपने माता-पिता के साथ समय बिताने का अवसर नहीं मिलने से उनका विश्वास और संबंध कमजोर हो सकते हैं. इसके अलावा, उन्हें अपनी समस्याओं और संदेहों को साझा करने का उचित माध्यम भी नहीं मिलता, जो उनके व्यक्तित्व विकास के लिए महत्वपूर्ण है.



Source link


Discover more from सच्चा दोस्त न्यूज़

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours

Leave a Reply