RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

कागजों में हो रहे संचालित आंगनबाड़ी केंद्र ,सरकार की मंशा पर फेर रहे पानी

आंगनबाड़ी केंद्र कागजों में हो रहे हैं संचालित            इटियाथोक/गोंडा                                                         सरकार बच्चों की प्रारंभिक विकास व स्वास्थ्य के प्रति भले ही सजग और गंभीर है लेकिन सरकार के द्वारा संचालित आंगनबाड़ी केंद्र सरकार के नियमों पर खरा नहीं उतर रहे हैं इटियाथोक विकासखंड अंतर्गत अधिकतर आंगनबाड़ी केंद्र महज दिखावा साबित हो रहे हैं केंद्रों पर ना तो कोई व्यवस्था है ना ही बिजली नहीं पानी शौचालय वहीं अधिकतर केंद्र खुलते भी नहीं है केवल कागजों में बच्चों को दिखाकर आंगनबाड़ी केंद्रों को संचालित किया जा रहा है सरकार की तरफ से कई ग्राम पंचायतों में आंगनबाड़ी केंद्र बना भी दिए गए हैं लेकिन उनके ताले नहीं खुल रहे हैं जिसके कारण वह जर्जर अवस्था में पहुंच रहे हैं सरका सरकार के द्वारा आंगनबाड़ी केंद्रों पर प्रारंभिक शिक्षा के साथ-साथ उनकी पोषण की भी व्यवस्था सरकार के द्वारा सुनिश्चित की गई है ।लेकिन यह केंद्र महज कुछ गिने-चुने लोगों को तक सामग्री पहुंचाने के अलावा और कुछ नहीं है। लाख शिकायत करने के बावजूद सरकार इन केंद्रों को ना तो बंद कर पा रही है और ना ही इन्हें ठीक तरीके से संचालित करवा पा रही है। तरह-तरह की लोकलुभावन योजनाएं चलाकर इन केंद्रों की दशा व दिशा सुधारने का प्रयास सरकार के द्वारा किया जा रहा है लेकिन यह केंद्र सरकार के नियमानुसार संचालित नहीं हो पा रहे हैं कहीं पर आंगनबाड़ी केंद्र नहीं है जहां बने हुए हैं वहां पर केंद्र पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री केंद्रों का ताला नहीं खोलती है कहीं पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री सबीना आंगनबाड़ी भवन के केंद्र का संचालन कर रही है। कुल मिलाकर सरकार के द्वारा चलाई गई योजनाएं की लाखों-करोड़ों रुपयों की बंदरबांट किया जा रहा है ।सरकार की बच्चों को कुपोषण से बचाने के साथ-साथ गर्भवती महिलाओं धात्री महिलाओं एवं किशोरी बालिकाओं को भी पोषण की व्यवस्था के उद्देश्य इन केंद्रों को संचालित किया जा रहा है। लेकिन ऐसा कुछ दिखाई नहीं दे रहा है इस बारे में इटियाथोक पर कार्यरत सुपरवाइजर राजलक्ष्मी से बात किया गया तो उन्होंने बताया केंद्र संचालित हो रहे हैं अगर कहीं गड़बड़ी है तो जांच करा कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी यह रटा रटाया शब्द का इस्तेमाल जब भी उनसे पूछा जाता है यही बताती है लेकिन ना ततो केंद्रों की दशा सुधर रही है और सरकार की मंशा भी फलीभूत होती नजर नहीं आ रही है।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

Leave a Reply

%d bloggers like this: