RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

गौ वंश को इकॉनोमी चैन से जोड़ेगी अहिंसा गौ सेना

सेना की सदस्यता हुई प्रारम्भ, लोकसभा एवं विधानसभा क्षेत्र से लेकर ग्रामपंचायत तक गठित होगी कार्यकारणी

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

इंदौर। गौ वंश को उनका सम्मान और हक़ दिलाने के लिए गौ वंश को राष्ट्रीय पशु घोषित करो अभियान के तहत देश भर के 4980 विधायकों एवं 788 सांसदों के साथ 27 राज्यपालों से मुलाक़ात कर लिखित समर्थन प्राप्त करने के लिए जारी अहिंसा यात्रा के अधीन राष्ट्रीय संयोजक गौ सेवक, हिन्दू युवा रत्न, वरिष्ठ पत्रकार विनायक अशोक लुनिया के नेतृत्व में अहिंसा गौ सेना का गठन प्रारम्भ हो चुका है। सेना की सदस्यता प्रक्रिया तीव्र गति से जारी है।
श्री लुनिया ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि गौ माता को जब हम माँ की संज्ञा देते है तो क्या उनको सम्मान से जीने और मृत्यु के बाद सम्मान से मोक्ष जाने का कोई हक नही है क्या???
श्री लुनिया ने बताया कि हम अहिंसा गौ सेना का गठन इसलिए कर रहे है क्योंकि देश भर में संचालित गौ शाला, व्यक्तिगत रूप से गौ पालक जो आज आर्थिक दृष्टिकोण से जूझ रहे है उनको अर्थव्यवस्था प्रक्रिया (इकॉनमी चैन) से जोड़ा जा सके। हम अहिंसा गौ सेना के गठन के साथ ही 18 अक्टोबर 2022 को गौ रक्षक एवं गौ माता को राष्ट्रीय पशु घोषित करो अभियान के सूत्रधार संस्थापक स्व. श्री अशोक जी लुनिया साहब के 70वी जन्मजयंती के उपलक्ष में गौ शाला को गोबर से लकड़ी बनाने की मशीन निशुल्क उपलब्ध करवाना व उन उत्पादों को बाजार में विक्रय हेतु उपलब्ध करवाना की प्रकिया (चेन – सायकल) को स्थापित करने का शुभारंभ करेंगे। जिसमे जहां गौ वंश को इकोनॉमी चेन से जोड़ने का प्रथम प्रयास होगा वहीं कई युवाओं एवं महिलाओं को रोजगार से भी जोड़ा जा सकेगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: