RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

लालबर्रा में केदारनाथ मंदिर जैसा होगा मां सरस्वती पंडाल

लालबर्रा में केदारनाथ मंदिर जैसा होगा मां सरस्वती पंडाल
लालबर्रा
– महाकौशल में अपने कार्यक्रमो की वजह से विख्यात हो चुका नगर का सरस्वती महोत्सव आगामी समय कुछ और नया करने के मुंड में है। जिसे लेकर समिति पदाधिकारियों द्वारा महोत्सव के 30 वे वर्ष को लेकर काफी उत्साह व उमंग के साथ अभी से कार्यक्रमो की योजना बनाने में जूट गये है। उक्ताशय जानकारी देते हुए समिति अध्यक्ष योगेश आश्वाले ने बताया कि प्रतिवर्षानुसार शरद पूर्णिमा तक चलने वाला दस दिवसीय महोत्सव आगामी 30 सितम्बर 2022 मूर्ति स्थापना के साथ प्रारंभ होगा,

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

जिसके दौरान कैसेट डांस, रंगोली, सामान्य ज्ञान, ओपन गरबा, एकल एवं ग्रुप डांस प्रतियोगिता सहित अन्य प्रतियोगिताये साथ ही भव्य देवी जागरण, ऑकेस्ट्रा सहित अन्य कार्यक्रम आयोजित किये जायेगे। श्री आश्वाले ने बताया कि महोत्सव के दौरान हमेशा नये-नये प्रयोग किये जाते है ताकि दर्शको का नया अनुभव हो, इस श्रृखला में इस बार भगवान षिव शंकर के धाम केदारनाथ के मंदिर की तर्ज पर मूर्ति स्थापना पंडाल बनाया जा रहा है जिसकी जिम्मेदारी आर्दश टेंट बरघाट के द्वारा निभाई जा रही है, हमेशा की तरह पूरे कार्यक्रमों का लाइव प्रसारण भी किया जायेगा जिससे दर्शक अपने अपने घर में रहते हुए कार्यक्रम देख सकते है और उसका आनंद भी ले सकते है। महोत्सव के दौरान लगने वाले स्टालों की बुकिंग भी आरम्भ हो चुकी है जो समिती के सुधीर जैन से सम्पर्क कर बुक कर सकते है। इस बार भी इनामी कूपन रखी गई है जो श्रृध्यालु दान स्वरूप 10 रू. देकर खरीद सकते है जिससे ही महोत्सव का खर्च निकाला जाता है। दर्षको के लिए झुले और अन्य खेल सम्बधी व्यवस्था भी की जा रही है ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: