RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

कंजई से कनकी तक सड़क व खेतो में आवारा पशुओं की धमा चौकड़ी

कंजई से कनकी तक सड़क व खेतो में आवारा पशुओं की धमा चौकड़ी
मतीन रजा….
लालबर्रा-
प्रतिवर्ष जहां एक ओर देश के अन्नदाता किसान प्राकृतिक आपदा का दंश झेलता है, वही दूसरी ओर पशुओ को अपने नीजी स्वार्थ के लिये पालने वाले पशु मालिक उन्हे आवारा छोड़ देते है, जिससे वे खेतो में लगी फसल को चट कर सड़को में धमाचौकड़ी करते फिरते है, वही दूसरी ओर धमाचौकड़ी के चलते सड़क दुर्घटना होने का अंदेशा बना रहता है।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913


   विदित हो कि क्षेत्रिय कृषक व सडक पर चलने वाले लोग लावारिस पशुओं की धमाचौकडी से परेशान हैं, पशुओं के झुंड खेतों में घुसते ही फसलो को चट जाते है, जितना खाते नही उससे कही ज्यादा तो पैरो (खुर) तले रौंद देते हैं। वही सडक पर चलने वाले व्यक्ति इन पशुओं की धमाचौकडी से सडक हादसे का शिकार होते है। ऐसी दशा में प्रशासन को चाहिऐ कि ऐसे आवारा पशुओं को चिन्हित कर उनके मालिको पर दण्डात्मक कार्यवाही का निर्णय ले, ताकि भविष्य में इसकी पुर्नःवर्ती ना हो।
किसानों को रात भर जागकर देना पड़ रहा है पहरा

   गौरतलब हो कि किसान इन दिनों आवारा पशुओं की समस्या से काफी परेशान है। पांढरवानी, अमोली, आमाटोला, मानपुर, औल्याकन्हार, कटंगटोला, नगपुरा, सिहोरा, नेवरगांव, गणेशपुर, कंजई गर्रा व कनकी सहित अन्य ग्रामों में आवारा पशुओं की धमा चौकड़ी आसानी से सड़को व खेतो में देखी जा सकती है, किसानों की माने तो रात के समय आवारा पशु उनके खेत खलियान को नुकसान पहुंचाते हैं। जिसके कारण उन्हे रात में पहरा देना पड़ता है।
पशुओ के बजाय मालिको के खिलाफ हो कार्यवाही- विक्की
   क्षेत्र क्रमांक 5 जनपद सदस्य देवेश विक्की गौतम ने बताया कि दो-तीन वर्ष पूर्व तत्कालिन जिलाधिकारी दीपक आर्य द्वारा किसानों व वाहन चालको के लिए परेशानी का सबब बने आवारा पशुओं के मालिको पर नकेल कसने के मकसद से जिले में नगर निगम, नगर परिषद व बडी ग्राम पंचायतो मंे सड़क पर लावारिश घूम रहे एवं बिना मालिकों के पशुओं को पकड़ने हेतु जिम्मेदारो को निर्देशित किया गया था, जिससे काफी हद तक आवारा पशुओं पर लगाम लगी थी, ठीक उसी तरह संबंधित अधिकारी व पदाधिकारियों को चाहिए कि वे आवारा पशुओ के बजाय उनके मालिको के विरूध्द दण्डात्मक कार्यवाही जैसी प्रक्रिया अपनायेे जिससे पशु मालिको को सबक मिल सके। 

फसल नुकसान के अलावा किया जाता है,यातायात प्रभावित-दीपक
   क्षेत्र क्रमांक 8 जनपद सदस्य दीपक कावरे ने बताया कि आवारा पशुओं द्वारा किसानो की फसले बर्बाद तो की जाती है, लेकिन उसके बाद वे मुख्य मार्गो में धमाचौकड़ी करते रहते है, जिससे यातायात तो प्रभावित होता है, साथ ही अनेको बार वाहन चालक दुर्घटना का शिकार हो चुके है। मेरी क्षेत्रिय आवारा पशु मालिको से अपील है, कि वे अपने-अपने पशुओं को घरो में रखे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: