RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

सहमा-सहमा आज

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

●●●
कौन पूछता योग्यता, तिकड़म है आधार ।
कौवे मोती चुन रहे, हंस हुये बेकार ।।
●●●
परिवर्तन के दौर की, ये कैसी रफ़्तार ।
गैरों को सिर पर रखें, अपने लगते भार ।।
●●●
अंधे साक्षी हैं बनें, गूंगे करें बयान ।
बहरे थामे न्याय की, ‘सौरभ’ आज कमान ।।
●●●
कौवे में पूर्वज दिखे, पत्थर में भगवान ।
इंसानो में क्यों यहाँ, दिखे नहीं इंसान ।।
●●●
जब से पैसा हो गया, संबंधों की माप ।
मन दर्जी करने लगा, बस खाली आलाप ।।
●●●
दहेज़ आहुति हो गया, रस्में सब व्यापार ।
धू-धू कर अब जल रहे, शादी के संस्कार ।।
●●●
हारे इज़्ज़त आबरू, भीरु बुजदिल लोग ।
खोकर अपनी सभ्यता, प्रश्नचिन्ह पे लोग ।।
●●●
अच्छे दिन आये नहीं, सहमा-सहमा आज ।
‘सौरभ’ हुए पेट्रोल से, महंगे आलू-प्याज ।।
●●●
गली-गली में मौत है, सड़क-सड़क बेहाल ।
डर-डर के हम जी रहे, देख देश का हाल ।।
●●●
लूट-खून दंगे कहीं, चोरी भ्रष्टाचार ।
ख़बरें ऐसी ला रहा, रोज सुबह अखबार ।।
●●●
सास ससुर सेवा करे, बहुएं करती राज ।
बेटी सँग दामाद के, बसी मायके आज ।।
(सत्यवान सौरभ के चर्चित दोहा संग्रह तितली है खामोश से )

—  सत्यवान ‘सौरभ’

रिसर्च स्कॉलरकवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार, आकाशवाणी एवं टीवी पेनालिस्ट,

Leave a Reply

%d bloggers like this: