RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

पंचायत चुनाव भाजपा की टक्कर भाजपा सेहर क्षेत्र से 2 उम्मीदवार लखपुरा का अहम रोल


पारा से प्रभाष ए जैन “मन”
पारा। सच्चा दोस्त। करीब 25 से अधिक ग्राम पंचायतों में एक मात्र सामूहिक बस्ती वाली ग्राम पंचायत पारा में इस बार सरपंच पद के लिए कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है। भूत पूर्व सरपंच ओंकारसिंह डामोर ने जहां पूर्व सरपंच अपनी बहू इंदुबाला डामोर के नाम को ही आगे बढ़ाया है वहीं पिछले 4 चुनावों सेडामोर परिवार को टक्कर देने के लिए कटारा परिवार के राकेश कटारा भी इस बार बाजी जितने को बेताब है। बख़तपुरा क्षेत्र के प्रसिद्ध महाकाली मंदिर के गादीपति अपनी धार्मिक छवि के बदले सरपंच पद की दौड़ में मुकाबला करने को तैयार है वहीं बख़तपुरा क्षेत्र के पप्पू डामोर जो चाय वाला के नाम से जाने जाते हैं ने भी बख़तपुरा क्षेत्र के साथ पारा के मतदाताओं को लुभा कर  सरपंच बनने का ख्वाब संजो लिया है। वहीं जिस लखपुरा को ओंकार डामोर का गढ़ माना जाता रहा है उसी गढ़ में सेंध लगा कर इसी ग्राम में एंटी इनकंबेंसी का लाभ उठाकर हिहोर परिवार की बहू जतनी हिहोर भी पारा के लोगो से वोट की अपेक्षा करते हुए सरपंच बनने  की पुरजोर कोशिश में लगी हुई है।  सुमित्रा परमार भी होली चौक, बख़तपुरा और अपनी पारिवारिक पहचान के बूते सरपंच बनने के लिए ऐड़ी चोटी का जोर लगा रही है।                    

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

हर क्षेत्र से दो – दो उम्मीदवार
पारा सरपंच पद के चुनाव में एक रोचक तथ्य यह भी है कि जितने भी उम्मीदवार खड़े हुए हैं उसका कोई एक प्रतिद्वंदी उसी क्षेत्र से उसका सामना कर रहा है। सुमित्रा परमार होली चौक से आती है, राकेश कटारा का घर भी इसी क्षेत्र से सटा हुआ है। बीस वर्षों से पारा के सरपंच पद पर आसीन लखपुरा के डामोर परिवार को इसी ग्राम की जतनी हिहोर से टक्कर मिलती दिखाई दे रही है। जतनी हिहोर ग्राम लखपुरा के साथ पारा के वोटो पर नज़र लगा कर जीत की जुगाड़ में लगी हुई है। बख़तपुरा क्षेत्र पारा सरपंच चुनाव के लिए महत्वपूर्ण माना जाता रहा है। यहां के बारे में यह कहा जा सकता है कि बख़तपुरा के वोट निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं। अभी तक लखपुरा तथा पारा के मत लगभग तय शुदा माने जाते रहे हैं और जो कोई बख़तपुरा से अधिकाधिक वोट कबाड़ लेगा वो सरपंच आसानी से बन जायेगा। इसी क्षेत्र के सतीश अजनार अब तक चुनावी तैयारियों में सबसे आगे दिखाई दे रहे हैं। वहीं इसी क्षेत्र के पप्पू डामोर सतीश के वोट काट कर सरपंच बनने के लिए लोगो से सम्पर्क में जुट गए हैं।

भाजपा वर्सेस भाजपा
कहने को तो सरपंच चुनाव दलगत नही होते लेकिन इस बात में भी कोई दो राय नही होती की  सभी तरह की सरकारी और गैर सरकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने में सरपंच की ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वर्षो पूर्व पारा क्षेत्र के सभी सरपंच कांग्रेसी हुआ करते थे लेकिन पिछले दशक में भाजपा ने गहरी पैठ बनाते क्षेत्र के लगभग  सभी सरपंच पदों पर अपने कार्यकर्ताओं को आसीन करवा दिया है। हालांकि पारा में इस बार भाजपा वर्सेस भाजपा ही दिखाई दे रहा है क्योंकि ओंकार डामोर जहां पहले भाजपा के मंडल अध्यक्ष रह चुके हैं वहीं सतीश अजनार वर्तमान में मंडल मंत्री हैं। पप्पू डामोर भी भाजपा के कार्यकर्ता हैं वहीं  कट्टर कांग्रेसी रहे राकेश कटारा का मोह भी पिछले दिनों पार्टी से भंग हुआ और उन्होंने भाजपा जॉइन कर ली थी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: