RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

बारिश में टापू बन जाता है छपरवाहा ग्राम,नदी और नालों से घिर जाते है क‌ई गांव,नहीं हुए ठोस उपाय

दमोह सच्चा दोस्त
बारिश का मौसम करीब है और लगातार बारिश होने से जबेरा अंचल में कई गांव टापू बन जाते हैं और यहां रहने वाले लोग इन दिनों काफी परेशानियों का सामना करते हैं। व्यारमा नदी की सहायक नदियों और नालों के साथ व्यारमा नदी का बारिश का पानी कुछ गांवों को चारों ओर से घेरकर टापू बना देता है,जिससे इन गांवों में रहने वाले लोग बाढ़ से कैद हो जाते हैं। हफ्तों तक इलाज एवं स्कूल से यहां के लोग वंचित रहते हैं। जनपद जबेरा में दर्जनों गांव ऐसे हैं जो नदी नालों से सटकर बसे है जिनमें ग्राम पंचायत मनगुवां घाट एवं छपरवाह गांव शून्य नदी व जंगली नाले में बाढ़ के चलते टापू बन जाते है। मनगुवां से मौसीपुरा तक का मार्ग डाउन लेबल होने के कारण जरा सी बारिश में बाढ़ का रूप ले लेता है। इसी तरह ग्राम पंचायत सिमरी जालम का गांव लखनी जो शून्य व धुनगी नदी के बीच बसा हुआ है,यह भी बाढ़ के कारण घेरे में आ जाता है। जिससे लखनी गांव के लोग घरों में कैद हो जाते हैं। व्यारमा नदी के तट पर बसे गांव लल्लूपुरा में व्यारमा नदी के बाढ़ का पानी लोगों के घरों तक पहुंच जाता है। इनकी परेशानियों उस दौरान बढ़ जाती हैं, जब सड़क मार्ग पर धंसरा व लल्लूपुरा रास्ते पर स्थित जंगली नाला उफना उठता है,जिससे यह गांव बाढ के पानी से चारों तरफ से घिर जाता है। शून्य नदी के किनारे बसे कछवारा गांव के भी यही हालात बनते हैं। व्यारमा उफनाई तो सड़क मार्ग पर जंगली नाला भी राह में बाधक बन कर इस गांव को चारों ओर से अपने घेरे में ले लेता है। ग्रामीण त्रिलोक सिंह बताते हैं कि वर्ष 2005 में बाढ़ के दौरान गांव टापू बने थे,जिसमें लल्लूपुरा गांव खाली कराकर ग्रामीणों को कैंप में शरण दी गई थी। इसके बाद वैसी स्थिति तो नहीं बनी लेकिन बारिश से नदी एवं नालों में बाढ़ की स्थिति निर्मित होती है निकलने वाले सभी मार्ग डूब जाते हैं जिससे यहां के लोग आम दुनिया से कट जाते हैं। अगर कोई व्यक्ति बीमार होता है तो उसे इलाज नहीं मिल पाता इसके साथ ही हर बार बारिश आते ही 2005 की बाढ़ की यादें ताजा हो जाती हैं। यदि इन ग्रामों में डाउन लेबल के पुल की जगह ऊंचे पुल बना दिए जाएं तो बाढ़ का पानी पुल को नहीं डूबा पायेगा और लोगों को आने-जाने का रास्ता भी मिल जाएगा।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

Rahul kumar jain

जिला ब्यूरो प्रमुख सच्चा दोस्त दमोह

Leave a Reply

%d bloggers like this: