RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

क्षेत्र में डायल 108 एंबुलेंस सुविधा ठप्प लगभग ढ़ेड़ माह से थमे हुए है, पहीऐ25 किमी दूर अन्य स्थानो की एम्बुलेंस से दी जा रही सेवाऐं

क्षेत्र में डायल 108 एंबुलेंस सुविधा ठप्प
लगभग ढ़ेड़ माह से थमे हुए है, पहीऐ
25 किमी दूर अन्य स्थानो की एम्बुलेंस से दी जा रही सेवाऐं
मतीन रजा…..
लालबर्रा-
आपातकालीन स्थिति में मरीजों को समय पर अस्पताल तक पहुंचाने के उद्देश्य से शासन द्वारा संजीवनी 108 एंबुलेंस की सेवाऐं प्रारंभ की गई है, ताकि मरीजों व पीड़ितों का समय रहते उपचार हो सके। लेकिन वह सेवाऐ क्षेत्र में पिछले एक-ढेड़ माह से ठप पड़ी हुई है, और क्षेत्रिय जनप्रतिनिधियों को अपनी राजनैतिक रोटी सेकने से फुरसत नही कि वे जनहित में उसे बहाल करने कोई कारगार कदम उठाये।
    जानकारी अनुसार छत्तीसगढ़ राज्य की जय अंबे नामक कम्पनी द्वारा टेंडर लिया गया है, जहां जिले में लगभग 36-40 गाड़ीयों की आवश्यकता है, जिसमें से 21 गाड़ीयां ही उपलब्ध हो पाई है। स्वास्थ्य विभाग की इतनी लचर व्यवस्था होने के बावजूद किसी भी जनप्रतिनिधि द्वारा उक्त मामले का गंभीरता से संज्ञान में नही लिया जा रहा है, जिसके चलते क्षेत्रिय पीड़ितो को असुविधा का सामना वही इएमटी व पायलटो को भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है, आगामी एक-ढेड़ माह बाद ही सारी सुविधा बहाल हो पायेगी।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/


मीडिया की देन क्षेत्र में बीएलएस एम्बुलेंस 108 वाहन
    गौरतलब है कि आपातकालीन स्थिति में मरीजों को समय पर अस्पताल तक पहुंचाने के उद्देश्य से शासन द्वारा संजीवनी 108 एंबुलेंस की सेवाऐं प्रारंभ की है, ताकि मरीजों व पीड़ितों का समय रहते उपचार हो सके। लेकिन लालबर्रा विकासखण्ड में वर्ष 2013 से आई एकलौती 108 एम्बुलेंस अधिक दौड़ने के कारण स्वयं बीमार हो चली थी। जिसे लेकर संवाददाता मतीन रजा द्वारा अखबार के माध्यम से ’’कंडम हो चुकी लालबर्रा में संचालित एम्बुलेंस’’ शीर्षक पर समाचार का प्रकाशन कर व्यक्तिगत रूप से संजीवनी 108 जोन अधिकारी महमूद खान से चर्चा कर नई एम्बुलेंस प्रदान करने का आग्रह किया था, जिसे प्रमुख्यता से लेते हुए श्री खान ने पुरानी ओमनी वाहन की जगह लालबर्रा थाना क्षेत्र के लिए नई बैसिक लाईफ सपोर्ट (बीएलएस) एम्बुलेंस 108 वाहन अप्रैल वर्ष 2019 में उपलब्ध करवाया, जिसे तत्कालिन थाना प्रभारी विजय कुमार विश्वकर्मा द्वारा 108 वाहन चालक को चाबी भेंट कर वाहन का शुभारंभ किया था, किंतु तीन वर्ष पश्चात उक्त एंबुलेंस के पहीये अंडर पैमेंट व क्रिमीनल रिकार्ड की वजह से थमे हुए है।


शोभा की सुपारी बनी अस्पताल की एम्बुलेंस
     जानकारी अनुसार दो दशक से भी अधिक समय से लालबर्रा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में रखी एम्बुलेंस शोभा की सुपारी बनी हुई है, जो इमरजेंसी पर ही नई नवेली दुल्हन की तरह अस्पताल से निकलती है। अनेको प्रस्ताव के बावजूद भी कबाड़ हुई एंबुलेंस ना बदली गई और ना नीलाम की गई, आपात कालिन सुविधा में मरीजों को राहत देने के बजाय यह गाड़ी सिर्फ जिले से दवाईयां लाने के लिये उपयोग की जाती है।
इनका कहना है-
    अंडर पैमेंट व क्रिमीनल रिकार्ड की वजह से गाड़ीयां हमें अभी हैन्डओवर नही हुई है। जैसे ही वेन्डरो का पैमेंट हो जाता है, सभी गाड़ीयां रिनुवल कर दी जायेगी।
दीपक सरीया, डायल 100 डीएम

Leave a Reply

%d bloggers like this: