RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

ॐ जय जगदीश हरे, भक्त जनों के संकट क्षण में दूर करे जगदीश मंदिर जीर्णोद्धार -दिल्ली से आया विशेषज्ञों का दल

जगदीश मंदिर जीर्णोद्धार -दिल्ली से आया विशेषज्ञों का दल

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/


भक्तों के संकट दूर करने वाले वासुदेव श्रीकृष्ण , प्रभु जगदीश जी अपने समस्त भक्तों के कष्ट दूर करते है। उनकी शरण मे जाने वाला समस्त भय, दुःख दारिद्र , संकटो से दूर रहता है , प्रभु अपने भक्तों पर वात्सल्य भाव रखते है और समस्त आशीषों से कृतार्थ करते है।
उदयपुर शहर का जगदीश मंदिर , प्रभु का अत्यंत प्राचीन और नयनाभिराम मंदिर है। यह मंदिर कई वर्षों से विभागीय अनदेखी के कारण कुछ जगहों पर जीर्ण शीर्ण हो रहा था जिसके लिये बजट की आवश्यकता थी लेकिन लाखो रुपये देवस्थान विभाग को मंदिर से प्राप्त होने के बावजूद मंदिर के खर्च के लिये उपलब्ध नही हो पा रहे थे। मंदिर जीर्णोद्धार के लिये अग्रणी संस्था इंटेक ने लगभग 5 लाख का आरंभिक एस्टीमेट दिया था जो भी देवस्थान विभाग कई समय से उपलब्ध नही करवा पाया। जिसके बाद शहर के लिये सामाजिक सरोकार रखने वाले “अपना चौपाल ” ग्रुप के माध्यम से ग्रुप एडमिन दिनेश भट्ट द्वारा एक जन जागरूकता अभियान प्रारंभ किया गया जिसके बाद पर्यटन उपनिदेशक अधिकारी शिखा सक्सेना ने सबसे पहले 11 हजार की राशि का सहयोग किया उसके बाद कारवाँ चल पड़ा , उदयपुर के शिव दल प्रमुख मनीष मेहता और उनकी टीम का योगदान भी अमूल्य रहा वे प्रारंभ से मंदिर के विकास कार्यों के लिये जुड़े रहे।
आज भक्तों के प्रयास का ही परिणाम रहा जो दिल्ली से विशेषज्ञों का दल जगदीश मंदिर जीर्णोद्धार हेतु निरीक्षण के लिये पहुँचा।
आज की निरीक्षण टीम में श्री धर्मेंद्र मिश्रा निदेशक (तकनीकी), श्री ललित कुमार वरिष्ठ संरक्षण अधिकारी, कला व सामग्री विभाग इंटेक, श्री कुलदीप सिंह चंद्र, अध्यक्ष होटल रेस्टोरेंट असोसिएशन राजस्थान, जयपुर, श्री गौरव सिंघवी संयोजक इंटेक, श्री मनीष मेहता शिव दल प्रमुख, ललित मेहता संयोजक इंटेक, आर्कियोलॉजी विभाग के सुपरिटेंडेंट श्री नीरज त्रिपाठी और अन्य कई समाज सेवी भी मौजूद रहे
कहते है भक्त और भगवान का रिश्ता दिल की गहराई का होता है । भगवान को हमेशा अपने भक्तों की चिंता रहती है और भक्त अपने आराध्य के लिये समर्पित रहता है , समर्पण के इसी भाव को भक्तों ने चरितार्थ कर दिया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: