RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

सामूहिक जिम्मेदारी निभाए, मलेरिया को दूर भगाएं -सीएमओ गोंडा

सामूहिक जिम्मेदारी निभाएं, मलेरिया को दूर भगाएं : सीएमओ

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

  • बदलते मौसम में मलेरिया से बचाव को लेकर रहें सतर्क, ‘मलेरिया रोधी माह’ के रूप में मनेगा जून माह

पवन कुमार द्विवेदी/गोंडा
बदलते मौसम के चलते समुदाय में डेंगू-मलेरिया रोग के फैलने की आशंका को देखते हुए स्वास्थ्य महकमे द्वारा जून को मलेरिया रोधी माह के रूप में मनाया जा रहा है | माह के दौरान समुदाय में मलेरिया को पनपने से रोकने और मलेरिया बचाव के संबंध में जन जागरुकता फैलाई जाएगी | इसका मुख्य उद्देश्य समुदाय में मलेरिया के बारे में जागरुकता बढ़ाना, उससे बचाव एवं नियंत्रण के लिए लोगों की सहभागिता सुनिश्चित करना है |
उक्त जानकारी शनिवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आरएस केसरी ने दी | उन्होंने बताया कि अपर निदेशक मलेरिया एवं वीबीडी उत्तर प्रदेश लखनऊ की ओर से पत्र जारी कर जून माह को मलेरिया रोधी माह के रूप में मनाए जाने के निर्देश दिए गए हैं |
सीएमओ ने कहा कि माह के दौरान लोगों को मलेरिया से बचाव के लिए शीघ्र निदान एवं त्वरित उपचार की जानकारी देने पर विशेष बल दिया जाएगा | इसके लिए नोडल अधिकारी वेक्टर बॉर्न डिजीज और जिला मलेरिया अधिकारी को निर्देशित किया गया है | एक से 30 जून तक चलने वाले मलेरिया रोधी माह में आमजन को मच्छर (वेक्टर) के प्रजनन स्थल जैसे- जल पात्रों को खाली कराने, कूलर, पानी के टैंक, गमले, पशु पक्षियों के पीने के पात्र व प्रयोग में न आने वाली सामग्री नारियल के खोल, प्लास्टिक की अनुपयोगी वस्तुएं, बोतल व अन्य निष्प्रयोज्य सामग्री को समाप्त करने के संबंध में लोगों को अवगत कराया जाएगा | हर रविवार, मच्छर पर वार कार्यक्रम का क्रियान्वयन प्रभावी तरीके से कराया जाएगा | गांव स्तर पर मलेरिया रोग की त्वरित पहचान कराते हुए त्वरित उपचार मुहैया कराने के लिए प्रभावित व्यक्ति को नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंचाने की जिम्मेदारी आशा और एएनएम को दी गई है |
नोडल अधिकारी डॉ एपी सिंह ने बताया कि ग्राम स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति के माध्यम से मलेरिया रोग से बचाव, उपचार, समय से रोगी को रेफर करने की सतत निगरानी कराई जाएगी | उन्होंने बताया कि मलेरिया रोधी माह के दौरान इस बात पर विशेष बल दिया जाएगा कि मलेरिया रोग की शीघ्र पहचान की जाए और जटिल मलेरिया रोगियों को जिन्हें उपचार से समुचित लाभ नहीं मिल रहा है और वह गंभीर स्थिति में है, ऐसे लोगों को निकटतम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र / सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र / उच्च स्तरीय चिकित्सालय पर शीघ्र पहुंचाने का काम भी कराया जाएगा |
जिला मलेरिया अधिकारी मंजुला आनंद ने बताया कि मलेरिया रोधी माह के दौरान दीवारों पर स्लोगन लिखे जाएंगे | इसमें ‘हम सबने ठाना है, मलेरिया को मिटाना है’; ‘दूर होगी मलेरिया की बीमारी जब होगी सभी की भागीदारी’; ‘जन-जन का यही है नारा मलेरिया मुक्त हो गांव व जिला हमारा’; पानी ठहरेगा जहां, मच्छर पनपेगा वहां’; ‘छोटी-सी मछली गम्बूसिया है नाम, करती है मच्छरों का काम तमाम’; आदि स्लोगन शामिल हैं | डीएमओ ने कहा कि माह के दौरान ग्रामीण इलाकों में मलेरिया से बचाव के लिए ग्राम स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समितियों के जरिए जलभराव वाले क्षेत्रों को पटवाने और मच्छररोधी दवाओं का छिड़काव कराने का कार्य किया जाएगा | उन्होंने बताया कि जिले में 01 जनवरी से 31 मई 2022 तक 10093 लोगों की मलेरिया जांच करायी जा चुकी है, जिसमें कुल तीन मरीज मिले हैं | साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि मलेरिया जांच के लिए आशा कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया गया है, ताकि वह अपने गांव में ही संभावित रोगी की मलेरिया जांच कर सके |

Leave a Reply

%d bloggers like this: