RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

सत्कर्म करने से ही प्रभु की कृपा प्राप्त होती पं उमाशंकर शास्त्री

दमोह सच्चा दोस्त
जबेरा जनपद के ग्राम घाट मनगुवा में चल रही है संगीत मय श्रीमद् भागवत महापुराण के तीसरे दिन पंडित उमा शंकर शास्त्री कहा कि सत्कर्म करने से ही प्रभु की कृपा प्राप्त होती है। आपके हृदय में भगवान का वास है तो श्रीहरि ही पाप, पाखंड, रजोगुण, तमोगुण से हमेशा दूर रखते हैं। भगवान का उन्हीं लोगों के हृदय में वास होता है, जो सत्कर्म करते हैं। अनैतिक कमाई का लाभ तो कोई भी उठा सकता है। परन्तु तुम्हारे अनैतिक कर्मों को तुम्हें ही भोगना होगा।
इसलिए कर्म करने में सावधानी बरतें। उन्होंने कहा कि मनुष्य का क्या कर्तव्य है इसका बोध भागवत सुनकर ही होता है। विडंबना यह है कि मृत्यु निश्चित होने के बाद भी हम उसे स्वीकार नहीं करते हैं। निष्काम भाव से प्रभु का स्मरण करने वाले लोग अपना जन्म और मरण दोनों सुधार लेते हैं। शास्त्री जी ने कहा कि प्रभु जब अवतार लेते हैं तो माया के साथ आते हैं। साधारण मनुष्य माया को शाश्वत मान लेता है और अपने शरीर को प्रधान मान लेता है। जबकि शरीर नश्वर है। उन्होंने कहा कि भागवत बताता है कि कर्म ऐसा करो जो निष्काम हो वहीं सच्ची भक्ति है। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं की उपस्थित रही

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

Rahul kumar jain

जिला ब्यूरो प्रमुख सच्चा दोस्त दमोह

Leave a Reply

%d bloggers like this: