RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

छोटे किसानों को भी नई-नई तकनीकों की जानकारी दें- कलेक्टर

सह.सम्पादक अतुल जैन की रिपोर्ट

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

 उन्नतशील कृषकों के यहां भ्रमण के लिए पहुंचे कलेक्टर 

शिवपुरी। कृषि को लाभ का धंधा बनाने के लिए नई-नई तकनीकें लाई जा रही हैं। कई उन्नतशील किसान हैं जो खेती से अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। कृषि के साथ पशुपालन भी कर रहे हैं।कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह भी लगातार क्षेत्र के भ्रमण पर रहते हैं। गत दिवस कलेक्टर अन्य अधिकारियों के साथ कोलारस व शिवपुरी क्षेत्र के उन्नतशील कृषकों के यहां भ्रमण के लिए पहुंचे। अधिकारियों ने किसान लक्ष्मण सिंह रावत के फार्म का निरीक्षण किया और पशुपालन की गतिविधियों की जानकारी ली और पशुओं का बीमा कराने की सलाह दी। इसके बाद मूढ़ेनी के कृषक इंदर रावत के मत्स्य पालन के लिए निर्मित तालाब का निरीक्षण किया। बांसखेड़ी के निवासी किसान नीतेंद्र परमार के फार्म का निरीक्षण किया। नीतेंद्र परमार द्वारा आचार्य विद्यासागर योजना के तहत ऋण लिया गया है और पशुपालन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2018 में ऋण लिया था अभी उनके पास 7 भैंसे हैं। पशुपालन से वह प्रतिमाह बैंक लोन की किस्त चुकाने के बाद अच्छा खासा मुनाफा आज कमा रहे हैं।कोलारस विकासखंड के ही ग्राम भटौआ के किसान भरत सिंह चौहान के फार्म का भी निरीक्षण किया। किसान भरत सिंह चौहान द्वारा आम का बाग लगाया गया है। इसके अलावा पशुपालन भी कर रहे हैं। पिछले वर्ष उन्होंने आम बेचकर लगभग छह लाख से अधिक की आय प्राप्त की। इसके अलावा 10 बीघा से अधिक में सागौन के भी पौधे लगाए हैं। कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने भरत सिंह चौहान से उनके द्वारा की जा रही कृषि की तकनीकों की जानकारी ली और कहा कि आसपास के छोटे किसानों को भी जानकारी दें जिससे किसान बेहतर कृषि प्रणाली की ओर उन्मुख हों। उन्होंने अडॉप्ट आंगनवाड़ी अभियान की चर्चा करते हुए कहा कि उन्नतशील किसान आगे आकर अपनी स्वेच्छा से क्षेत्र की आंगनबाड़ी गोद ले सकते हैं और बच्चों के लिए व्यवस्थाएं कर सकते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: