RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

प्रजापिता ब्रम्हकुमारिज ईश्वरीय विश्वविद्यालय गोपालपुरा में राजयोगिनी दादी ह्रदय मोहिनीजी का प्रथम पुण्य स्मृति दिवस मनाया गया, दादी के जीवन पर वक्ताओं ने रखे अपने विचार विशेष राजयोग एवं ब्रम्हा भोज का हुआ आयोजन


झाबुआ। शहर के समीपस्थ ग्राम गोपालपुरा स्थित प्रजापिता ब्रम्हकुमारिज ईश्वरीय विश्वविद्यालय (शिव स्मृति भवन) पर राजयोगिनी दादी हृदय मोहिनीजी का प्रथम पुण्य स्मृति दिवस ओम शांति दिव्यता दिवस के रूप में मनाया गया। अपने नाम के अनुरूप दादी ह्रदय मोहिनी ने लाखों मनुष्य आत्माओं के हृदय को परम् पिता परमात्मा (शिव बाबा) के साथ जोड़ने का कार्य किया।
आयोजित कार्यक्रम में बीके जयंती दीदी ने उपस्थित सभीजनों के समक्ष दिव्य उद्गार प्रकट करते हुए कहा कि दादीजी, जिन्हें दिव्य दृष्टि दात्री का वरदान स्वयं परमात्मा द्वारा प्राप्त हुआ था। दादीजी स्व-परिवर्तन पर विशेष ध्यान देते थे। शिव परमात्मा का ज्ञान बड़े सरल ह्रदय स्पर्शी शब्दों में व्यक्त करते थे। वर्ष 1969 से लेकर 2021 तक शिव भगवान का दूसरा साकार माध्यम बन ज्ञान की गंगा बहाते हुए आपने लाखों मनुष्य आत्माओं के जीवन को परिवर्तन करते हुए आप अव्यक्त आरोहण स्थिति को प्राप्त हुए। इस अवसर पर वरिष्ठ समाजसेवी यशवंत भंडारी ने अपने मन के उद्गार प्रकट करते हुए दादीजी के सानिध्य में बिताए हुए वरदानी भरे पलों को सभी के समझ साझा किया। वरिष्ठ दंत चिकित्सक डॉक्टर नीतिन गर्ग ने भी कुछ वर्ष पूर्व माउंट आबू में दादीजी के संग बिताए हुए सुनहरे पलों को और उनके आशीर्वचन को सभी के बीच रखा।
मातृ शक्तियों ने भी रखे अपने विचार
ब्राम्हण समाज से पधारी प्रियंका जोशी ने दादीजी के स्मृति दिवस पर आकर स्वयं को धन्य महसूस किया एवं उन्होंने महसूस किया कि आज दादीजी स्वयं मुझे संस्था में लेकर आई है। इस अवसर पर ब्राह्मण समाज से श्रीमती वीणा भार्गव, अंजु शर्मा मंजुला देराश्री, रेखा शर्मा, स्मृति भट्ट आदि ने भी ह्रदय मोहीनीजी के जीवन पर अपने विचार व्यक्त किए।
राजयोग से बनाए जीवन को श्रेष्ठ
माहिष्मति कला मंच के जिलाध्यक्ष एमएल फूलपगारे ने दादीजी के बताए हुए पद चिन्हों पर चलते हुए सभी को अपना जीवन सुव्यवस्थित बनाने की प्रेरणा दी। इस अवसर पर इंडसइंड बैंक के मैनेजर श्री निवास ने भाव विभोर होकर अपना अनुभव साझा करते हुए कि कैसे हम कर्म में शिव भगवान को याद कर कर्मयोगी बनकर हर कार्य को श्रेष्ठ करते चले, यह संभव होता है राजयोग से। कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारी परिवार की पेटलावद, रायपुरिया, कल्याणपुरा मेघनगर, थांदला एवं थांदला रोड़, गोपालपुरा से भी बड़ी संख्या मे भाई-बहनो ने भाग लिया।
ह्रदय मोहिनीजी के चित्र पर दी पुष्पांजलि
अंत में सभी ने दादीजी को याद कर उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर संकल्प लिया। इस अवसर पर कृषि विभाग झाबुआ के सहायक संचालक जीएस त्रिवेदी, भावना, तारा, शारदा, सरिता, नेहा, कविता बहन, संतोष भाइर्, रमेश भाई, मनीष, विक्की भाई, सपना, दुर्गा, गीता, सुनीता, सीमा बहन आदि भी उपस्थित थी। कार्यक्रम का समापन मेडिटेशन एवं ब्रह्मा भोजन के साथ हुआ।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

Leave a Reply

%d bloggers like this: