RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

मातंगी धाम झाबुआ के लिए गौरव का विषय, मातंगी चालीसा के यू-ट्यूब पर पूरे विश्व में 1 करोड़ से अधिक दर्शक हुए देश के प्रधानमंत्री, महात्मा गांधी एवं अंबानी परिवार की कुलदेवी है माता मोढ़ेश्वरी


झाबुआ। शहर के राजगढ़ नाका पर कृषि विभाग के पीछे बालाजी धाम पर निर्मित मातंगी धाम की स्थापना हुए आज 16 वर्ष पूर्ण हो चुके है। हाल ही में इस धाम पर मां मोढ़ेश्वरीजी का 16वां पाटोत्सव मनाया गया था। तालाब के तट किनारे सुंदर एवं मनोरमी आभा लिए बालाजी धाम के समीप मातंगी धाम पर प्रतिदिन ना केवल झाबुआ जिले अपितु मप्र, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र सहित देश के विभिन्न शहरों से भी अनेकों भक्तजन समय-समय पर यहां दर्शन-पूजन के लिए आते है। मातंगी माता देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ अंबानी परिवार की भी कुलदेवी है। बालाजी धाम पर मप्र की दूसरी नक्षत्र वाटिका भी है। बालाजी धाम ‘‘नाम एक धाम अनेक’’ के नाम से संपूर्ण प्रदेश में पहचाना जाता है।
जानकारी देते हुए मातंगी पारमार्थिक ट्रस्ट झाबुआ के प्रधान ट्रस्टी एवं एकीकृत ब्राह्मण महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष राकेश त्रिवेदी ने बताया कि मातंगी चालीसा का एल्बम झाबुआ मातंगी मंंिदर से मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा के अवसर पर रिलीज किया गया था। जिसमंे रतलाम से पधारे गिनिज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकार्डर गिरीश शर्मा द्वारा गाई गई मातंगी चालीसा के यू-ट्यूब पर अपलोड होने के बाद अब तक पूरे विश्व से 1 करोड़ से अधिक विवर्स हो चुके है। यह मांतगी धाम और मातंगी पारमार्थिक ट्रस्ट के लिए गौरवमयी उपलब्धि है। आदिवासी अचंल झाबुआ में स्थित मातंगी धाम से रिलीज़ एलबम गाने वाले गिरीश शर्मा विश्व के पहले नंबर के पुरूष गायक है। जिनके मातंगी चालीसा के विवर्स एक करोड़ हो चुके है। यह अपने आप में एक बहुत बड़ा रिकार्ड है।
गुगल पर भी उपलब्ध मातंगी चालीसा
यू-ट्यूब के साथ गुगल पर भी मातंगी चालीसा सर्च करने पर श्री शर्मा की चालीसा, जो झाबुआ स्थित मातंगी धाम से रिलीज़ हुई थी, संपूर्ण ब्यौरे के साथ आ जाएगी। ज्ञातव्य रहे कि मातंगी मोढ़ेश्वरी के भक्त आज ना केवल भारत ही नहीं अपितु पूरे विश्व में है। मातंगी धाम झाबुआ की इस अभूतपूर्व उपलब्धि के लिए मातंगी धाम से जुड़े समस्त भक्तजनों में अत्यधिक हर्ष एवं उत्साह है।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

Leave a Reply

%d bloggers like this: