RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

इफको नैनो यूरिया उपयोग संगोष्ठी सम्पन्न, इफको नैनो यूरिया किसानों के लिए वरदान- उप संचालक कृषि

सह.सम्पादक अतुल जैन की रिपोर्ट

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/


शिवपुरी।
 इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव लिमिटेड (इफको) द्वारा कोलारस के ग्राम अटरूनी में 25 फरवरी को इफको नैनो यूरिया उपयोग संगोष्ठी का आयोजन किया गया।
संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में उप संचालक कृषि श्री यू.एस.तोमर, विशेष अतिथि के रूप मे इफको भोपाल के संयुक्त महाप्रबंधक श्री बहादुर राम, सहायक संचालक उधानिकी श्री एस.एस.कुशवाह, मुख्य प्रबन्धक इफको(कृषि सेवाएं) डॉ.डी.के.सोलंकी एवं मुख्य प्रबन्धक इफको ग्वालियर श्री आर.के.एस.राठौर उपस्थित रहे।
क्षेत्रीय अधिकारी इफको शिवपुरी श्री रुपेन्द्र कुमार महोलिया ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए बताया कि इफको किसानों की विश्व की नम्बर एक सहकारी संस्था है जो पिछले 55 वर्षों से किसानों की सेवा में तत्पर है। संयुक्त महाप्रबंधक इफको भोपाल श्री बहादुर राम ने किसानों को नैनो यूरिया के उपयोग एवं महत्व के बारे में विस्तार से बताया कि इफको नैनो यूरिया, सामान्य यूरिया का विकल्प है एवं सामान्य यूरिया से 10 प्रतिशत सस्ता भी है। इफको नैनो यूरिया की एक बोतल की कीमत मात्र 240 रुपये है, साथ ही बताया कि एक 500 मि.ली. की एक बोतल एक एकड. के लिए पर्याप्त है। नैनो यूरिया का उपयोग करने से परिवहन लागत में भी कमी आयेगी तथा कालाबाजारी से भी किसान बच सकेगा।
उप संचालक कृषि श्री यू.एस.तोमर ने नैनो यूरिया का लाभ बताते हुए किसानों को इफको नैनो यूरिया का उपयोग अधिक से अधिक करने की सलाह दी। इससे किसान कम लागत में अधिक पैदावार प्राप्त कर सकता है। साथ ही बताया कि अधिक से अधिक जैविक उत्पादों का उपयोग कर खेती करें जिससे किसान मृदा की उर्वरा शक्ति को बनाए रखते हुए अधिक पैदावार प्राप्त कर सकते हैं।
मुख्य प्रबंधक इफको (कृषि सेवाएं) डॉ.डी.के.सोलंकी ने किसानो को जल विलेय उर्वरको के बारे में विस्तार से बताया कि यह सामान्य उर्वरको से अधिक दक्षता वाले उर्वरक हैं एवं इनका उपयोग पर्णीय छिड़काव कर तथा ड्रीप के माध्यम से कर सकते है। सागारिका एक समुद्री शेवालो से बनाया गया उत्पाद है जिसमें सभी प्रकार के तत्व उपलब्ध होने के साथ-साथ सभी प्रकार के लवण, विटामिन, एमिनो एसिड एवं हार्माेन्स उपलब्ध है। यह पोधे की बढ़वार व उत्पादन को बढ़ाने में सहायक है।
कार्यक्रम में उपस्तिथ कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ. पुष्पेन्द्र सिंह ने किस्मो के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि अच्छी किस्मो का उपयोग करना चाहिए। क्षेत्रीय अधिकारी इफको शिवपुरी ने संगोष्ठी के प्रारम्भ में सभी किसानों एवं अतिथियों का स्वागत करते हुए इफको के सम्बन्ध मे विस्तार से जानकारी देते हुए किसानो को बताया कि इफको के खाद को खरीदने पर किसानों का बीमा हो जाता है, जिसे संकट हरण बीमा योजना के नाम से जाना जाता है। इसमे एक बोर पर 4000 रुपये का बीमा होता जिसकी अधिकतम सीमा 25 बोरे या 1 लाख रुपये है। जिस किसान के नाम से इफको का खाद खरीदा जाता है उसका बीमा एक साल के लिए हो जाता है। इसमे किसान की मृत्यु पर प्रति बोरा 4000 रुपये एवं 50 प्रतिशत नुकसान पर 2 हजार रुपये प्रति बोरा एवं 25 प्रतिशत के नुकसान पर 1 हजार रुपये प्रति बोरा बीमा नामित व्यक्ति को दिया जाता है। ग्राम अटरुनी के सरपंच श्री पूरन सिंह रघुवंशी ने सभी का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: