RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

छोट शेष वाहन पर श्री मुरली कृष्ण के अलंकरण में कल्याण श्रीनिवासु

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

श्रीनिवासमंगपुरम में श्री कल्याण वेंकटेश्वरस्वामी के ब्रह्मोत्सव के दूसरे दिन सोमवार की सुबह श्रीनिवास ने श्री मुरली कृष्ण के वेश में सजे एक छोटे शेष वाहन में विराजमान किए । मंदिर में कोविड-19 नियमों के तहत एकांत में वाहन सेवा का आयोजन किया गया।

दूसरे दिन की सुबह श्री कल्याण वेंकटेश्वर पाँच सिरों वाले छोटे शेष नाग वाहन में विराजित थे। छोटे शेष वाहन श्रीवारी में प्रकट पंचभौतिक प्रकृति का प्रतीक है। तो यह वाहन पंचभौतिक ब्रह्मांड और उसमें रहने वाले जीवन का है। श्रीवारी प्रकृति जहां ब्रह्मांड दिखाई देता है। विष्णु इस प्रकृति के आधार हैं और इसके पीछे प्रेरक शक्ति हैं। स्वामी ब्रह्मांड के रक्षक हैं इसलिए वे शेषु पर ही चलते हैं। पांच सिरों के छोटे शेष के दर्शन गौरवशाली है।

स्नैप तिरुमंजनम:

बाद में, सुबह 10.30 बजे से 11.30 बजे तक, स्वामी और अम्मावरला उत्सवों को स्नैपनाथिरुमंजनम मनाया। दूध, दही, शहद, नारियल पानी, हल्दी और चंदन से इसका अभिषेक किया जाता है। शाम 7 से 8 बजे तक स्वामी हंस वाहन पर दर्शन देंगे।

समारोह में जेईओ श्री वीरब्रह्मण दंपत्ति, मंदिर उप ईवो श्रीमती शांति, वैखानासा आगम सलाहकार श्री विष्णुभट्टाचार्य, एईओ श्री गुरुमूर्ति, अधीक्षक श्री चेंगलरायलु, श्री रामनय्या, मंदिर के पुजारी श्री बालाजी रंगाचार्य और कंकना भट्टर श्री शेषाचार्य ने भाग लिया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: