‘जादू नहीं विज्ञान’’ कार्यक्रम में किए गए हिन्दू संस्कृति के अपमान को लेकर अभाविप ने जिला शिक्षा कार्यालय पर दिया धरना, प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम जिला षिक्षा अधिकारी को सौंपा ज्ञापन ऐसे कार्यक्रमों पर लगे रोक, नहीं तो संगठन करेगा उग्र आंदोलन

इन्दौर सह सम्पादक -मनीष एस.कुमट (जैन), 9752354207, 9752173207
झाबुआ संवाददाता – दौलत गोलानी


झाबुआ। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की जिला इकाई द्वारा हाल ही में जिले के स्कूलों में आयोजित किए गए कार्यक्रम ‘‘जादू नहीं विज्ञान है’’ का तीव्र विरोध किया है। अभाविप के अनुसार उक्त कार्यक्रम एवं इसके नाम पर आयोजित  प्रतियोगिताओं में प्रस्तुत दृश्यों में हिन्दू संस्कृति और धर्म का अपमान हुआ है, जो समस्तहिन्दू संप्रदाय को आघात पहुंचाने वाला है।
जिसको लेकर अभाविप के जिला सह-संयोजक दर्शन कहार, नगर मंत्री वैभव जैन, आंशु पंवार, पवन परमार, निलेश गणावा आदि सहित अन्य पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने 14 जनवरी, शुक्रवार को दोपहर करीब 1 बजे इस संबंध मंे स्थानीय ब्लॉक कॉलोनी स्थित जिला शिक्षा कार्यालय पर धरना देकर जिला शिक्षा अधिकारी के खिलाफ नारेबाजी की। चूंकि यह कार्यक्रम जिला शिक्षा अधिकारी के निर्देश पर एवं उनकी उपस्थिति में विद्यालयों में संपन्न हुए। जिसमें विभिन्न दृश्य हिन्दू संप्रदाय की संस्कृति और धार्मिक भावनाओं ठेस पहुंचाने वाले है। अभाविप ने करीब आधा घंटे तक यहां धरना प्रदर्शन कर जमकर नारेबाजी भी की।
हिन्दू संस्कृति एवं धर्म का अपमान नहीं सहन करेगा संगठन
बाद जिला शिक्षा अधिकारी ओपी बनड़े के आने के बाद उन्हें इस मामले से अवगत करवाया। तत्पश्चात् उन्हें मप्र के मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भी प्रेषित किया। जिसमें उल्लेख किया गया कि अभाविप विद्यार्थियों का सबसे सक्रिय छात्र संगठन है। हाल ही में विद्यालयों में जो ‘‘जादू नहीं विज्ञान’’ कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें संस्कृति को अंधविश्वास के रूप में दिखाया गया है। जिसमें शिवजी के प्रतीक ओम को जलाने, पिलीया का ईलाज माला के माध्यम से संभव होने के बावजूद, उसे ढोंग बताने सहित धर्म का भी मजाक उड़ाने के दृश्यों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाना सरासर गलत है। ज्ञापन में मांग की गई कि इस प्रकार के कार्यक्रमों को तत्काल ही बंद किया जाए एवं भविष्य में होने वाले ऐसे कार्यक्रमों में शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारी निगरानी रखे। ऐसो नहीं होने पर उग्र आंदोलन की भी चेतावनी दी गई।
मप्र शासन को पत्र के माध्यम से करवाएंगे अवगत
– अभाविप द्वारा इस मामले में दिए गए ज्ञापन पर पत्र के माध्यम मप्र शासन को इसे अवगत करवाया जाएगा, ताकि इस तरह के आपत्तिजनक दृश्यों पर उक्त आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में भविष्य में रोक लग सके।
ओपी बनड़े, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला शिक्षा कार्यालय झाबुआ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: