शासकीय उत्कृष्ट उमा विद्य़ालय झाबुआ में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन हेतु कार्यशाला का हुआ आयोजन, ‘‘जादू नहीं विज्ञान है’’ प्रतियोगिता में अलग-अलग विकासखंडांे के विद्यार्थियों ने दी प्रस्तुतियां प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय विकासखंड का हुआ चयन

इन्दौर सह सम्पादक -मनीष एस.कुमट (जैन), 9752354207, 9752173207
झाबुआ संवाददाता – दौलत गोलानी


झाबुआ। शासकीय उत्कृष्ट उमा विद्यालय झाबुआ में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन संबध्ंाी कार्यशाला का आयोजन एवं जिला स्तरीय ‘‘जादू नहीं विज्ञान है’’ प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। दोनो अवसरों पर कार्यक्रम में जिला शिक्षा अधिकारी ओपी बनड़े एवं एडीपीसी जीपी ओझा ने मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहकर मार्गदर्शन प्रदान किया।
जानकारी देते हुए संस्था प्राचार्य महेन्द्रकुमार खुराना ने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति कार्यशाला में विविध विषयों पर उत्कृष्ट विद्यालय, बुनियादी हाईस्कूल एवं कन्या शिक्षा परिसर के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने अपने विचार एवं सुझाव पटल पर रखे। इन प्राप्त सुझावांे को जिला शिक्षा अधिकारी के माध्यम से क्रियान्वयन समिति तक पहुंचाया गया। दूसरे कार्यक्रम ‘‘जादू नहीं विज्ञान है’’ में जिले के सभी विकासखंडों की टीमों ने बेहद ही रोचक तरीके से नाटक विद्या द्वारा मनोरंजन तरीके से ‘‘जादू-टोना और झांड़-फूंक को केवल अंधविश्वास साबित कर इसके पीछे के विज्ञान के तथ्यों को समझाकर उपस्थित छात्र-छात्राओं की जमकर तालियां बटोरी।
विजेताआंे की घोषणा की गई
समन्वयक संस्था के प्राचार्य श्री खुराना ने आगे बताया कि प्रतियोगिता में झाबुआ विकासखंड की टीम ने प्रथम स्थान प्राप्त वहीं किया। वहीं द्वितीय स्थान पर रानापुर विकासखंड तथा तृतीय स्थान थांदला विकासखंड ने टीम ने हासिल किया। कार्यक्रम की जिला नोडल अधिकारी श्रीमती अमीना खान थी। वहीं संस्था के मुस्तफा खान एवं लक्की सिसौदिया ने प्रस्तुतियों में मार्गदर्शन प्रदान किया। संचालन उच्च श्रेणी शिक्षक राकेश परमार ने किया। संस्था प्राचार्य महेन्द्रकुमार खुराना ने दोनो कार्यक्रमांे में आभार व्यक्त कर इनके उद्देश्य पर प्रकाश डाला।

Leave a Reply

%d bloggers like this: