समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की तिथि बढ़ाये सरकार-आनंद

समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की तिथि बढ़ाये सरकार-आनंद
प्राकृतिक आपदा और मेसेज ना आने से किसान परेशान
लालबर्रा-
युवा समाजसेवी किसान नेता अधिवक्ता आनंद बिसेन ने जारी वक्तव्य में बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा सहकारिता और खाद्य विभाग के संयुक्त समन्वय से प्रदेश के जिले और क्षेत्र में सभी अधिकांश चिन्हित आवश्यक प्राथमिक सहकारी सोसायटीयों को ग्रामीण क्षेत्रीय किसानों के खरीफ फसल के उपार्जित क्षमता लिमिट अनुरूप शासकीय समर्थन मूल्य पर धान बिक्री करने हेतु 01 दिसम्बर 2021 से 15 जनवरी 2022 तक नियत किया गया है, जो क्षेत्र में सोसायटीयों में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी संचालित है किंतु पिछले 15-20 दिनों से प्राकृतिक आपदा ओला, पाला, बरसात और निरंतर मौसम खराब होने से समय पर क्षेत्र के किसानों ने सोसायटी में अपनी उपार्जित धान बिक्री नहीं की है और ना ही सोसायटीयों में किसानों का धान पूर्णतः पर्याप्त मात्रा में समर्थन मूल्य पर खरीदा जा सका है और अब तक क्षेत्रीय किसानों का पर्याप्त धान सोसायटीयों में नहीं तौला गया है,

एक ओर तो पूरे प्रदेश में अन्य राज्यों की तुलना में किसानों की धान फसल का समर्थन मूल्य भी बहुत कम है पर्याप्त समर्थन मूल्य किसान की धान का सोसायटीयों में नहीं दिया जा रहा है जिसको लेकर क्षेत्र का किसान बहुत चिंतित है और हजारों किसानों को अब तक धान बिक्री हेतु उनके मोबाईल नंबर पर मेसेज भी नहीं आये है जिसको लेकर किसान क्षेत्र में भारी परेशानी का सामना कर रहा है। श्री बिसेन ने बताया कि वैसे भी प्राकृतिक आपदा के चलते किसान पीड़ित है आर्थिक तंगी और महगाई की मार झेल रहा है, और दूसरी ओर वर्तमान में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी तिथि न बढ़ने और मेसेज न आने से भारी परेशानी का सामना किसानों को करना पड़ रहा है। ज्ञात हो कि क्षेत्र में अधिकांश किसान के घर परिवार के भरण-पोशण षादी विवाह निर्माण कार्य और अन्य आवष्यक जीविकापार्जन खर्चाे के लिए किसान को अपनी खरीफ धान फसल की बिक्री राषि पर ही निर्भर होकर जीवन यापन करना होता है,यदि किसान अपने पर्याप्त धान फसल के समर्थन मूल्य से वंचित होगा तो उसे बहुत षारीरिक मानसिक और आर्थिक क्षति होगी। इस संदर्भ में श्री बिसेन ने अपने क्षेत्रीय किसानों के हित में स्वयं उन्नत कृशक और किसान पुत्र होने के नाते प्रदेश के मुख्यमंत्री, खाद्य मंत्री, सहकारिता मंत्री से मांग की है कि इस प्राकृतिक आपदा के समय क्षेत्र के, जिले के किसानों के हित में संवेदनषील होकर गंभीरता से चिंतन मनन कर सोच बनाकर निर्णय ले और तत्काल 15 जनवरी से समर्थन मूल्य बढ़ाकर 31 जनवरी की जाये और शेष रहे हजारों किसानों के मोबाईल पर तत्काल उनके धान खरीदने हेतु मेसेज भिजवाये जाये ताकि किसानों का धान समर्थन मूल्य पर खरीदा जा सके और किसानों को अपनी उपज का उचित दाम मिल सके। अन्यथा किसान अपने हक के लिए सड़कों पर उतरकर आंदोलित होंगे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: