ग्राम जामली विधिक साक्षरता एवं जागरूकता कार्यक्रम

खरगोन, राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं मप्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार प्रधान जिला न्यायाधीश एवं अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री अजय प्रकाश मिश्र के मार्गदर्शन में तहसील विधिक सेवा समिति खरगोन द्वारा ग्राम जामली के शासकीय हाई स्कूल में शुक्रवार को विधिक साक्षरता एवं जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

इसे भी पढ़े : अब महिला चैन स्नेचर से भी बचे ,कट्‌टे के दम पे लूटा

कार्यक्रम का शुभारंभ श्री अभिषेक कुमार त्रिपाठी, न्यायिक मजिस्टेªट प्रथम श्रेणी खरगोन द्वारा मां सरस्वती एवं महात्मा गांधीजी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर किया गया। कार्यक्रम का संचालन पैरालीगल वालेंटियर श्री इरफान खान द्वारा किया गया। कार्यक्रम के दौरान जन साहस संस्था की गरिमा केंद्र ग्राम जामली की बालिकाओं द्वारा बाल विवाह एवं छेड़छाड़ विषय पर नाटक प्रस्तुत कर उपस्थित आमजन को जागरूक किया गया।

श्री अभिषेक कुमार त्रिपाठी, न्यायिक मजिस्टेªट प्रथम श्रेणी, खरगोन द्वारा अपने उद्बोधन में विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा संचालित की जा रही विभिन्न योजनाओं जैसे निःशुल्क अधिवक्ता योजना, लोक अदालत, मध्यस्थता योजना, निःशुल्क विधिक सहायता एवं सलाह योजना, पैरालीगल वालेंटियर्स योजना एवं अन्य कानून जैसे बाल विवाह, बालिका शिक्षा, वरिष्ठ नागरिको संबंधी कानून, यातायात नियमों के बारे में अवगत कराया गया।

साथ ही उपस्थितजन को बच्चों एवं महिलाओं की सहायता के लिए सहायता के लिए टोल फ्री नंबर 1098 की जानकारी दी गई। कार्यक्रम के दौरान शिक्षक श्री प्रवीण महाजन एवं श्रीमती ताम्रकर द्वारा भी अपने विचार व्यक्त कर कहा गया कि बालिकाओं को भगवान की तरह पूजा करें बालिकाए भगवान का रूप होती है। बाल विवाह गैर कानूनी है, समाज में फैली रुड़ीवादियों को दूर करना चाहिए ।

कार्यक्रम में विद्यालय के शिक्षक श्रीमती गुप्ता, जनसाहस संस्था से श्री मो. दाउद, रानी निर्गुड़े, संजना मनाग्रे, कु. मुन्नी मण्डलोई, पैरालीगल वालेंटियर श्री इरफान खान, कविमा सोनोने, यामिनी पाण्डे, श्री परसराम गंधारे, श्री रितेश निगवाल, श्री रविन्द्र तोमर, श्री नीलम पगारे, ग्राम केे सरपंच श्री धरमसिंह वास्कले, उप सरपंच श्री भारतसिंह चौहान, श्री चौनसिंह पटेल, सचिव श्री दिलीप रागल्या, ए.एस.आई. श्री यादव उपस्थित रहे। कार्यक्रम का आभार पैरालीगल वालेंटियर श्री नीलम पगारे ने माना।

Leave a Reply

%d bloggers like this: