नगर में बिगड़ती यातायात व्यवस्था जवाबदार है मोन

खाचरोद: नगर में वाहनों के लगातार बढ़ते दबाव को नियंत्रित करने के लिए पुलिस अमला और दूसरी व्यवस्थाएं न होने के कारण यातायात की स्थिति लगातार बदहाल होती जा रही है। मनमर्जी तरीके से वाहनों की आवाजाही होने के कारण इसका खामियाजा आम जनमानस को उठाना पड़ रहा है। वाहनों के रूट का निर्धारण या दिशा बोध न होने के कारण नगर के सार्वजनिक स्थलों पर कई बार जाम की स्थिति बन रही है। जहां पर जगह तो है, लेकिन व्यवसायियों द्वारा अपनी दुकानों का सामान सड़क पर रख देने से संकीर्ण होते रास्ते से घुसने वाले भारी बड़े वाहनों के कारण अक्सर जाम लग जाता है।

वही जो बाईपास बनाया गया है वह नाम मात्र का है नगर के मुख्य रोड पर आए दिन भारी वाहन आते जाते रहते हैं जिससे किसी दिन कोई बड़ा हादसा होने का अंदेशा है वही नगर में मुख्य व्यस्त मार्गो में दो पहिया वाहन से भी जाम लगा रहता है लेकिन बार- बार हो रही इस समस्या का हल खोजने को लेकर कोई गंभीर नहीं है। दरअसल लंबे समय से अव्यवस्थित यातायात के बीच चलने वाली नगर की व्यवस्था को अब नगरीय प्रशासन और ट्रैफिक पुलिस की महती जरूरत होने लगी है।

इसे भी पढ़े : रेल मंत्री आने के पूर्व सांसद और डीआरएम ने किया निरीक्षण

जिससे आवागमन सुगम हो सके, लेकिन स्थानीय जनप्रतिनिधियों की लचर कार्य शैली के चलते इस समस्या के समाधान में कोई रुचि अधिकारी भी नहीं ले रहे हैं। सड़कों को संकीर्ण स्थिति और उसपर फुटपाथ पर पसरे व्यापार के कारण आवागमन बदहाली का शिकार हो रहा है। जिसमें के बार सड़कों की सामग्री के कारण वाहनों की क्रासिंग में भारी परेशानियां होती हैं। लेकिन बार बार चेताने के बाद व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के लिए दुकानदारों के द्वारा भी सहयोग नहीं किया जा रहा है।

नगर में उज्जैन दरवाजा लक्ष्मीनाथ मंदिर सुनहरी बाग रोड गोपाल मंदिर चबूतरा चौराहा गणेश देवली शुक्रवार या बाजार  अनेक जगहों पर ट्राफिक जाम आए दिन लगा रहता है लेकिन इस बिगड़ी व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए प्रशासनिक स्तर पर स्थाई व्यवस्था नहीं कराई जा रही है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: