कलेक्टर के नाम एसडीएम पुरूषोतम कुमार को फर्नाजी में मेला आयोजित करने की मांग को लेकर ज्ञापन मंदिर समिति द्वारा दिया गया

खाचरौद। ग्राम फर्नाजी में प्रतिवर्षानुसार कार्तिक माह में पडवा से एकादशी तक 10 दिवसीय मेले का आयोजन होता है। गतवर्ष कोरोना के कारण प्रशासन ने मेला स्थगित कर दिया था इस वर्ष किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं है कि मेला आयोजित न हो सके।

इसे भी पढ़े :त्योहारों को देखते हुए खाद्य पदार्थों की हो जांच

उक्त आशय का मंदिर समिति के सदस्यों एवं जनप्रतिनिधियों ने कलेक्टर के नाम एसडीएम पुरूषोतम कुमार तथा क्षैत्रीय विधायक दिलीपसिंह जी गुर्जर को ज्ञापन प्रेषित कर मेला आयोजन करने की अनुमति प्रदान करने की मांग की है।

फर्नाजी मंदिर के मुख्य पुजारी बगदीराम गुर्जर व देवसेना जिला अध्यक्ष सुरेन्द्रसिंह गुर्जर ने बताया कि लाखो आदिवासियों का आस्था का केन्द्र देवनारायण भगवान व भैरव महाराज की मान मन्नत पुरी करने इस मेले में नाचते गाते दूर-दूर से आदिवासी पैदल चल कर मन्नत पुरी करने आते है और ये सिर्फ मेले में ही आते है गतवर्ष मेला स्थगित होने से हजारों लोग जो फर्नाजी मेले की आस लगाये बैठे रहते है उनमें काफी निराशा का भाव है।

समिति के सदस्यों ने यह भी बताया कि मुख्यमंत्री के गृह जिले में गत माह गणेश उत्सव, दुर्गा उत्सव तथा अन्य मेले का आयोजन भी हुआ तो फिर फर्नाजी मेले पर रोक क्यों ? उत्तरप्रदेश, छतीसगढ, महाराष्ट्र, हरियाणा सरकार ने भी मेले का आयेाजन करने की अनुमति शर्तो के साथ प्रदान की है तो फर्नाजी मेले का आयोजन भी शर्तो के साथ सम्पन्न करने की अनुमति प्रदान की जाए ताकि हजारों लोगों की आस्था का केन्द्र देवनारायण व भैरव जी के दर्शन व मन्नत वालों की मन्नत समय पर पुरी हो सके।

ज्ञापन देने वालों में रामकिशन गुर्जर, दशरथ गुर्जर, अर्जुन गुर्जर, मानसिंह गुर्जर,अरुण चिनु पाटीदार ,चम्पालाल चौधरी, दौलतराम, मुन्नालाल, प्रेमसिंह, नागूलाल, दुलेसिंह, देवसिंह, उमरावसिंह, मांगीलाल, भेरूलाल, देवेन्द्र आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: