जाना था इंदौर पहुंच गया उज्जैन

अचानक हुआ पेट में दर्द, हो गई मौत

अजनबी व्यक्ति ने जैसे तैसे मोबाइल चालू करके डायल नंबर पर कॉल किया।

पोस्टमार्टम के बाद ही ये स्पष्ट हो पाएगा कि युवक की मौत का कारण क्या है।

इंदौर की जगह उज्जैन कैसे पहुंच गया यह परिजनों को भी समझ नहीं आ रहा

उज्जै।एक युवक दो दिन पहले  अपने घर से बहन के घर इंदौर जाने के लिए निकला था। लेकिन वह   इंदौर नहीं पहुंचा। एक दिन पहले उज्जैन रेलवे स्टेशन पर वह किसी अजनबी को मिला।अजनबी व्यक्ति ने जैसे तैसे मोबाइल चालू करके डायल नंबर पर कॉल किया। जो युवक के गांव में लगा। गांव में संपर्क होने के बाद किसी ने युवक के भाई को सूचना दी इसकी सूचना दी। सूचना मिलते ही परिजन उसे लेने रात में ही उज्जैन पहुंचे। घर लाने के बाद उसे अचानक पेट में तेज दर्द हुआ और तड़के जिला अस्पताल पहुंचने से पहले उसकी मौत हो गई।

इसे भी पढ़े : गुटखा नहीं खिलाने पर मारपीट

जानकारी के अनुसार, विकास वर्मा बहन के घर इंदौर जाने के लिए निकला था।  वह बहन के घर नहीं पहुंचा। उसका मोबाइल भी बंद था। परिजनों को चिंता हुई तो वे देवास सहित आसपास के क्षेत्रों में विकास को तलाशने लगे। लेकिन उसका पता नहीं चल पाया। आखिरकार परिजनों ने हाटपीपल्या थाने पहुंचकर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई।

विकास के परिजनों ने बताया कि बीती रात विकास उज्जैन रेलवे स्टेशन पर किसी अजनबी युवक को तड़पता हुआ दिखाई दिया। उसने विकास का मोबाइल देखा तो वह बंद मिला। मोबाइल चालू करने के बाद उसने डायल नंबर पर दोबारा कॉल किया। अज्ञात व्यक्ति ने पूरा घटनाक्रम उस युवक को बताया। फोन पर हुई बात वह युवक सीधे विकास के भाई को बतया। विकास के परिजन उज्जैन पहुंचे, जहां विकास को उसी अज्ञात व्यक्ति ने उज्जैन के सिविल अस्पताल में भर्ती कर दिया था। प्राथमिक इलाज के बाद परिजन उसे लेकर गांव आए। कुछ देर बाद उसके पेट में दर्द शुरू हुआ। जब परिजन उसे लेकर देवास आ रहे थे, तभी विकास ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम के बाद ही ये स्पष्ट हो पाएगा कि युवक की मौत का कारण क्या है।

इसे भी पढ़े : ट्रक की टक्कर से तीन घायल

विकास के पिता और उसका भाई गांव में ही सलून का काम करते थे। विकास भी वहीं काम करता था। विकास की दो बहनें हैं। एक बहन इंदौर रहती है। मंगलवार को इंदौर बहन के घर जाने का कहकर निकला था। लेकिन वह इंदौर की जगह उज्जैन कैसे पहुंच गया यह परिजनों को भी समझ नहीं आ रहा है। विकास 10वीं कक्षा तक पढ़ा है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: