कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए मनाया ईद मिलाद उन नबी का पर्व, आशिकों ने लूटाया लंगर

इस तरह सजाए गए शहर के गली-मोहल्ले।

सांकेतिक रूप से निकाले गए जुलूस में शामिल समाजजन।

नूरमंडी में तबर्रूक बांटते नूरानी ग्रुप सदस्य।

शाजापुर। ईदों की ईद मिलादुन्नबी पर पैगम्बरे रिसालत ताजदारे मदीना हजरत मोहम्मद साहब का जन्मदिन शहर में कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए हर्षोल्लास के साथ मनाया गया और इस दिन विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम आयोजित कर अमन चैन की दुआएं मांगी गई। शासन की गाइडलाइन के अनुसार खातेमुल अंबिया की आमद पर शहर के मगरिया में सांकेतिक रूप से जुलूस निकाला गया। जुलूस हनफी गोशिया ताकिया मस्जिद से शुरू हुआ जो मगरिया चौराहे पर पहुंचकर संपन्न हुआ। इसके साथ ही मस्जिदों और घरों में कुरआन ख्वानी की गई। इसके बाद बच्चे, बुढ़े और जवानों ने नबी-ए-पाक के प्रति अपने इश्क का इजहार करते हुए दुरूद और सलाम पेश किया।

इसे भी पढ़े : नगर निगम कर्मचारी को घेरकर पीटा

रंग-बिरंगी लिग्गियों से सजा शहर

ताजदारे मदीना की पैदाईश पर शहर में प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए पूरी अकीदत के साथ धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। पैगंबर साहब की आमद को लेकर आशिके रसूलों ने शहर को रंग-बिरंगी लिग्गियों से आकर्षक रूप से सजाया। साथ ही लंगर लूटाकर तबर्रूक के रूप में भोजन कराया। वहीं दूध, शरबत, गुलाब जामून, रबड़ी आदि का तबर्रूक बांटा गया। उल्लेखनीय है कि 12 रबीउल अव्वल के दिन सरकारे दो जहां,  रसूले खुदा की पैदाइश हुई थी, जिसे मुस्लिम समाजजनों द्वारा ईदों की ईद कहा जाता है और इस जश्न को ईदे मिलादुन्नबी के रूप में मनाया जाता है। इसीके चलते इस वर्ष भी मुस्लिम समाजजनों ने खुशियां मनाते हुए धार्मिक आयोजन किए।

Leave a Reply

%d bloggers like this: