त्योहार में राजस्थान सरकार ने दिया महिलाओ को उपहार

करवा चौथ के कठिन नियमों वाले व्रत को देखते हुए इस दिन महिलाओं की परीक्षा नहीं रखी जाए।

पटवरी की परीक्षा 23 की बजाय 24 अक्टूबर को रखी गई थी

करवा चौथ को देखते हुए महिला अभ्यर्थियों को राहत देते हुए 23 अक्टूबर को ही उनकी परीक्षा करवाने का फैसला लिया

पटवारी भर्ती परीक्षा में शामिल होने वाली महिला अभ्यर्थियों को बड़ी राहत मिली है। करवा चौथ को देखते हुए राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने 5 लाख से ज्यादा महिला अभ्यर्थियों को राहत देते हुए 23 अक्टूबर को ही उनकी परीक्षा करवाने का फैसला लिया है। जिनकी परीक्षा 24 अक्टूबर को होनी है। हालांकि अलवर और धौलपुर में पंचायत चुनाव के कारण 23 अक्टूबर की बजाय 24 अक्टूबर को ही परीक्षा होगी। वहां महिला कैंडिडेट्स को घर के नजदीक के एग्जाम सेंटर अलॉट किए गए हैं।

इसे भी पढ़े : अवैध संबधों ने ले ली युवक की जान अमलतास के सुपरवाइजर ने दी थी सुपारी

करवा चौथ पर महिलाओं को राहत

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा ने बताया कि 23 और 24 अक्टूबर को होने वाली पटवरी परीक्षा 2021 में लगभग 15 लाख 63 हजार से ज्यादा कैंडिडेट रजिस्टर्ड हैं। इसमें महिला अभ्यर्थियों की संख्या 5 लाख से ज्यादा है। प्रत्येक पारी में लगभग 4 लाख कैंडिडेट्स परीक्षा देंगे। लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति बनाए रखना और अनावश्यक भीड़भाड़ नहीं करना भी चुनौती है। 24 अक्टूबर को करवा चौथ होने के कारण यह फैसला लिया गया है कि 23 अक्टूबर को ही सभी महिला कैंडिडेट की परीक्षा आयोजित करवा दी जाएगी। ताकि 24 अक्टूबर को करवा चौथ का पर्व वो अपने घर-परिवार में मना सकें।

अलवर और धौलपुर में 24 अक्टूबर को नजदीकी केन्द्रों पर होगी परीक्षा

इसे भी पढ़े : काका का हत्यारा ,भतीजा पकड़ाया

अलवर और धौलपुर में पंचायत राज चुनाव के कारण परीक्षा 23 की बजाय 24 अक्टूबर को रखी गई है। इन जिलों में महिला कैंडिडेट्स को नजदीकी सेंटर पर ही परीक्षा केन्द्र अलॉट किए गए हैं। प्रदेशभर में पटवारी भर्ती परीक्षा के कैंडिडेट्स यह मांग उठा रहे थे कि महिलाओं के अमर सुहाग के पर्व और करवा चौथ के कठिन नियमों वाले व्रत को देखते हुए इस दिन महिलाओं की परीक्षा नहीं रखी जाए। मामले की नजाकत को भांपते हुए यह फैसला लिया गया है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: