खिलचीपुर नाके से लेकर आरडीगार्डी तक का पेंचवर्क शुरू

उज्जैन। आगर रोड पर खिलचीपुरा से लेकर आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज तक की सड़क पिछले डेढ़ साल से बड़े-बड़े गड्ढों में बदली नजर आ रही थी। यहाँ दो हफ्ते पहले एक के बाद एक गंभीर सड़क हादसे भी थे जिसमें लोगों की जान चली गई थी। उल्लेखनीय है कि आगर रोड पर हर साल खिलचीपुर से लेकर आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज के आगे तक की सड़क के लगभग 7 से 8 किलोमीटर के दायरे में बरसात के बाद सड़क की हालत खराब हो जाती है।

इसे भी पढ़े : नगर निगम की छिड़काब दवा का मच्छरों पर नही असर

सिंहस्थ में निर्माण के बाद ही यह समस्या चली आ रही है। एमपीआरडीसी और अन्य संबंधित विभाग यहाँ बरसात के बाद ठीक से पेंचवर्क तक नहीं कराते हैं। दूसरी ओर एमपीआरडीसी ने ही उज्जैन जिले के 380 स्पाटों को सबसे ज्यादा सड़क दुर्घटना होने वाले स्थानों में चिन्हित किया है। उसमें यह मार्ग भी शामिल है। बावजूद इसके हर साल इस सड़क का मेंटेनेंस नहीं कराया जाता। इस बार तो हालत पिछले वर्षों के मुकाबले ज्यादा खराब हो गई।

खिलचीपुर से लेकर मेडिकल कॉलेज तक की सड़क पर अनगिनत गड्ढे हो चले थे। इनमें दो पहिया वाहन से लेकर ऑटो और ट्रक आगर रोड पर इस तरह पेंचवर्क किया जा रहा है.तक के पहिये आए दिन यहाँ गड्ढों में फंस रहे थे। कई बार कॉलेज के स्टूडेंट के दो पहिया वाहन भी गड्ढों के कारण यहाँ गंभीर सड़क हादसे भी पिछले 6 महीनों में हुए हैं। दुर्घटनाग्रस्त हो रहे थे। इस मुद्दे को अग्रिबाण ने प्रमुखता से आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में मरीजों को ले जाने वाली उठाया था जिसके बाद अब यहाँ एमपीआरडीसी ने एम्बुलेंस भी इन गड्ढों का शिकार होती रही हैं। मेडिकल पेंचवर्क शुरू करा दिया है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: