बिजली की लुकाछिपी से आमजन परेशान।

बिजली कब आती है ,और कब चली जाती है,पता नही चलता   

तनोडिया। प्रदेश में कम बारिश व कोयले की कमी एवं बिजली पैदावार में कमी होने से और बिजली की मांग ज्यादा होने के कारण बिजली की समस्या आ गई है। और इधर नगर में उमस और गर्मी के बीच क्षैत्र में दर्जनों गांवों को रात में सोते समय तीन दिनों से बार बार बिजली की लुकाछिपी से रहवासियों परेशान हो रहे है। साथ ही डेंगु जैसे बिमारियों से भी भयभीत है। बिजली विभाग द्वारा समय समय पर घंटों बिजली बंद रखकर मैंटेनेंस नाम पर घटें बिजली बंद रहती वो भी बगैर सुचना से हो रही है।आए दिन होने वाली बिजली कटौती मैंटेनेंस की पोल खोल रही है।इसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड रहा है।

इसे भी पढ़े :पुलिस ने की 20 लीटर अवैध हाथ भट्टी शराब जब्त

रविवार को भी बार बार बिजली बंद चालु का खेल चल रहा था। और क्षैत्र के ग्रामीण अंचल के गांवों में घंटों गायब रहने वाली बिजली से जनता परेशान हो चुकी है। और अलग से भारीकम बिजली बिल आने से भी गरीब लोग परेशान हो रहे है। |  क्षैत्र के अनेक गांवों में बिजली की अघोषित कटौती ने ग्रामीणों को गर्मी व मच्छरों में हलाकान कर दिया है | रात्रि में अचानक बिजली गुल हो गई।जो देररात तक नही लोटी तो लोग सोने के लिए बिजली का इतंजार करते रहे।

लेकिन बिजली एक घटें बाद आई।और दो घटें बाद फिर चली गई। जो सुबह तक नही आई,यह सिलसिला करीब एक सप्ताह से लगातार चल रहा है। जिससे नगर में नलों से पानी की व्यवस्था बिगड गई। अधिकारी ने कटौती को लेकर अभिझता जाहिर की और बताया कि यह कटौती हमारे स्तर से नही है.आगे से आदेश के अनुसार हो रही है।   इधर क्षैत्र के गांवों के ग्रामीणों भवंरसिंह राठौर, राजेश पाटीदार,नागुसिंह सिसोदिया, रोडसिंह,कालुसिंह, नारायणसिंह अन्य ग्रामीण की माने तो वहां लंबे समय से कब जाती है.और कब आती है,पता ही नही चल रहा है। गुल होने का तयशुदा शेड्यूल बन गया है |

इस तरह ग्रामीणों ने बिजली कटौती के इस अघोषित शेड्यूल के अनुरूप ढाल कर अपनी दिनचर्या बना ली है | लेकिन पंखे बंद होने से मच्छरों के कारण लोग परेशान हो रहे है।    ग्रामीणों का यह भी कहना है कि बिजली कटौती ने शिवराज सरकार के ग्रामीण क्षेत्र में भरपूर बिजली के दावों पर पानी फेर दिया है | स्थानीय विविकं के जेई पवनसिंह ने बताया कि बिजली उत्पादन कै मेंटेन करने के लिए लोड शेडिंग की जा रही है।आगे चर्चा की तो बताया कि जब प्रदेश में थर्मल पावर प्लांट में कोयले की कमी होने के कारण समस्या आ रही है।

 इस मुद्दे पर सरकार को घेरते हुए काग्रेंस के वरिष्ठ नेता व पुर्व आगर मंडी उपाध्यक्ष नरेन्द्रसिंह राठौर ने कहा कि पर्याप्त बारिश होने के बाद भी सभी प्लांट बंद क्यों है। जिसके कारण सस्ती बिजली का उत्पादन नही हो रहा है। और सरकार को महंगी विघुत खरीदनी पड रही है।और उसका भी भुगतान नही किया जा रहा है। मुख्यमंत्री के सारे दावे फेल हो चुके है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: