ग्रेसिम के स्पीनिंग विभाग में एक श्रमिक की कार्य के दौरान हुई मौत,

प्रबंधन परिजन को नौकरी के साथ 5 लाख की क्षतिपूर्ति राशि देगा

श्रमिक के परिजनों द्वारा श्रमिक की मौत गैस लगने से होने की बात कही गई

श्रमिक की मौत किन कारणों से हुई है इसका पता तो अन्त्य परीक्षण रिर्पोट से ही लग सकेंगा,

नागदा । बिरलाग्राम स्थित ग्रेसिम स्टेपल फायबर डिविजन में शुक्रवार की देर शाम को स्पीनिंग विभाग में कार्यरत एक श्रमिक की कार्य के दौरान ही मौत हो गई। बताया जाता है कि श्रमिक द्वितीय पाली में उद्योग में कार्य करने हेतु आया था। श्रमिक की मौत किन कारणों से हुई है इसका पता तो अन्त्य परीक्षण रिर्पोट से ही लग सकेंगा,

इसे भी पढ़े : स्थापना प्रभारी की मनमानी से कर्मचारी हो रहे हैं परेशान

लेकिन शुरूआती जांच के बाद चिकित्सकों ने ह्दयघात होने की आशंका भी जताई है। ग्रेसिम द्वारा संचालित अस्पताल के चिकित्सकों की इस प्रथम दृष्टया जांच पर परिजनों ने अविश्वास जताया है तथा श्रमिक की मौत दम घुटने के कारण होने की आशंका जताई है तथा परिजनों को उचित हितलाभ एवं बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था करने की मांग की है।

क्या है मामला

मामले में प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्रेसिम उद्योग के स्पीनिंग विभाग में कार्यरत सुनील जोशी जो कि पिता की मौत के बाद अनुकम्पा नियुक्ति के तहत उद्योग में कार्यरत थे शुक्रवार को बी-पाली में उद्योग में कार्य करने हेतु गए थे, देर शाम को उनकी मौत हो गई। उद्योग में कार्यरत श्रमिक की मौत किन कारणो के चलते हुई है इसका पता तो पीएम रिर्पोट के बाद ही चल पाऐगा। श्रमिक की मौत की जानकारी परिजनों को मिलने पर रात्रि में ही इन्दुभाई पारिख मेमोरियल ट्रस्ट हॉस्पिटल पुॅंच गए थे।

श्रमिक के परिजनों द्वारा श्रमिक की मौत गैस लगने से होने की बात कही गई यहॉं तथा दुर्घटना हितलाभ प्रदान करने की मांग की गई। मृतक श्रमिक रिश्तेदार सत्यनारायण जोशी ने स्पष्ट कहा कि सुनील की मौत गैस लगने से हुई तथा उन्होंने उद्योग में लगातार किए जा रहे जिंक के उपयोग पर भी आपत्ति ली। जोशी ने कहा कि उद्योग में कार्यरत श्रम संगठनों का अब कोई अस्तीत्व नहीं रहा है। शनिवार की सुबह मृतक श्रमिक की दो बच्चीयों ने बिरलाग्राम थाने में धरना भी दे दिया। बाद में अस्पताल में प्रबंधन एवं श्रमिक के परिजनों के बीच चर्चा उपरांत मामला सुलझ सका।

मृतक सुनील के परिजनों के आश्रित को नौकरी और पाँच लाख की आर्थिक सहायता देगा ग्रेसिम प्रबंधन

इसे भी पढ़े : बदमाशों ने वार्ड बॉय को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

उद्योग के जनसंपर्क अधिकारी संजय व्यास ने बताया कि शुक्रवार को ग्रेसिम उद्योग के स्पीनिंग विभाग में कार्यरत 44 वर्षीय श्रमिक सुनील जोशी की कार्यस्थल पर तबियत बिगड़ने के बाद अस्पताल में ईलाज के दौरान मृत्यु होने पर श्रम संगठनों के साथ गत 9 अक्टूबर 2019 को हुए समझौते के अनुसार पत्नी को  क्षति पूर्ति बतौर  पांच लाख रुपए की आर्थिक सहायता एवं एक आश्रित को नौकरी दी जाएगी। इस आशय का एक पत्र प्रबंधन की तरह से मृतक की पत्नी श्रीमती सोनल जोशी को प्रदान किया गया।

इस मौके पर प्रबंधन की तरफ से उपाध्यक्ष सुधीर कुमार सिंह, सहायक उपाध्यक्ष विनोद कुमार मिश्रा, मुख्य सुरक्षा अधिकारी अनिल निकल, प्रबंधक अदित अरोरा, डॉ सुरेन्द्र मीणा के अलावा संयुक्त ट्रेड यूनियन मोर्चे की तरफ से जोधसिंह राठौड़, जगमालसिंह राठौड़, जागेश्वर शर्मा, ह्रदयचंद, अशोक गुर्जर, मनोहर गुर्जर, अशोक शर्मा, राजेन्द्र अवाना, राजेन्द्र सिंह, सुजान सिंह ठाकुर, दिलीप पांचाल मौजूद रहे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: