अब तो बचा लो सिंहस्थ क्षेत्र की जमीन

कालोनाइजर खरीददारों को अपने सब्जबाग के जाल में इस प्रकार फंसाते है कि उन्हें सही गलत का पता नहीं चलता

अवैध 6 कॉलोनियां चिह्नित की गई

जांच के बाद प्रशासन की नजर यहां जमीन बेचने वाले दलालों पर भी ।  

उज्जैन : सिंहस्थ 12 साल मे एक बार आता है और साधु संत यहां आकर थूनी रमाते है। उज्जैन शहर की पहचान ही सिंहस्थ है। लेकिन भूमाफियाओं की नजर सिंहस्थ क्षेत्र की बेशकीमती जमीन पर रहती है और इस क्षेत्र में अवैध रूप से कालोनी काट कर अपना उल्लू सीधा कर लेते हैं। कालोनाइजर खरीददारों को अपने सब्जबाग के जाल में इस प्रकार फंसाते है कि उन्हें सही गलत का पता नहीं चलता है। 

इसे भी पढ़े :नागझिरी औद्योगिक क्षेत्र में 8 करोड़ के निर्माण कार्य का शुभारंभ

सिंहस्थ क्षेत्र की जमीन बचाने के लिए अवैध कॉलोनियों को हटाने की कार्रवाई प्रशासनिक स्तर पर जारी है। अधिकारियों ने मंगल कॉलोनी में 6 और अनुबंध निरस्त करा दिए हैं। यहां अब तक 17 अनुबंध निरस्त हो गए हैं। कॉलोनाइजर और खरीदारों के बीच सहमति से अनुबंध निरस्त हो जाने से इन्हें भी हटाने की तैयारी है। अंकपात और अन्य सिंहस्थ क्षेत्र में जांच के बाद 6 अवैध कॉलोनियां चिह्नित की गई हैं। इन्हें हटाने के लिए प्रशासन ने कॉलोनाइजरों से खरीदारों को राशि लौटा कर मकान तोड़ने का रास्ता अपनाया है।

इस क्रम में राजस्व अधिकारी कॉलोनाइजरों और खरीदारों के बीच सहमति बनाकर मकान हटा रहे हैं। खरीदारों को कॉलोनाइजरों से राशि मिल जाने के बाद वे स्वयं भी मकान हटा रहे हैं। प्रशासन ने खरीदारों को नुकसान न हो इसलिए यह रास्ता अपनाया है। हालांकि इसमें कुछ कॉलोनाइजर सामने नहीं आ रहे और वे जमीन बेचकर गायब हैं। प्रशासन के पास इनके नाम आ गए हैं।

इसे भी पढ़े : सांप के काटने से मृत्यु होने पर आर्थिक सहायता स्वीकृत

अधिकारी खरीदारों और इन कॉलोनाइजरों के बीच सहमति बनाने के लिए जुटा है। जूना सोमवारिया क्षेत्र में भी सहमति बनाने के प्रयास जारी हैं। जो कॉलोनाइजर सामने नहीं आ रहे हैं, उनके खिलाफ प्रशासन कभी भी सख्त कार्रवाई कर सकता है। प्रशासन की नजर यहां जमीन बेचने वाले दलालों पर भी है।  

Leave a Reply

%d bloggers like this: