विजयादशमी पर्व पर भगवान महाकाल की सवारी राजसी ठाठ-बाट से निकली

सशस्त्र पुलिस बल के जवानों के द्वारा श्री मनमहेश भगवान को सलामी दी गयी व पालकी नगर भ्रमण की ओर रवाना किया गया। 

परम्परानुसार महाकाल मंदिर के शिखर पर ध्वज बदला गया ।

ध्वज का पुजन मदिर स्थित पंचायती महानिवार्णी अखाड़े द्वारा किया गया। 

उज्जैन । प्रतिवर्ष परम्परानुसार इस वर्ष भी विजयादशमी पर्व मनाया गया। सायं 04 बजे विजयादशमी पर्व पर भगवान श्री महाकाल की सवारी राजसी ठाठ-बाट के साथ निकाली गयी। सवारी के पूर्व सभा मण्डप में मंदिर में ए.डी. एम. संतोष टैगोर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र सिंह, आदि ने पालकी को कांधा देकर नगर भ्रमण की ओर रवाना किया। इस दौरान मंदिर प्रबंध समिति के सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल , प्रतीक दिवेदी, सुश्री पूर्णिमा सिंगी आदि उपस्थित थे।

इसे भी पढ़े : कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दुःखहरणी द्वार से प्रतिमा का विसर्जन शुरू

पालकी जैसे ही श्री महाकालेश्वर मंदिर के मुख्य द्वार पर पहुंची, मध्य प्रदेश सशस्त्र पुलिस बल के जवानों के द्वारा श्री मनमहेश भगवान को सलामी दी गयी व पालकी नगर भ्रमण की ओर रवाना किया गया। 

पालकी में विराजित भगवान श्री मनमहेश का दर्शन लाभ सवारी मार्ग के दोनों ओर खडे श्रद्धालुओं ने लिया। वर्ष में एक बार नये शहर में भ्रमण पर जाने वाली भगवान श्री महाकालेश्वर जी की सवारी श्री महाकाल मंदिर से तोफखाना, दौलत गंज, मालीपुरा होती हुई देवास गेट, ओव्हर ब्रिज होते हुए, फ्रीगंज, माधव नगर पुलिस कंट्रोल रूम के सामने से होती हुई दशहरा मैदान पर पहुंची।

सवारी मार्ग में श्रद्धालुओं द्वारा जगह-जगह पर श्री महाकालेश्वर भगवान का स्वागत किया गया। दशहरा मैदान पर आशीष सिंह अध्यक्ष एवं कलेक्टर श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति, सत्ये्न्द्र कुमार पुलिस अधीक्षक द्वारा श्री महाकालेश्वर भगवान की अगवानी की गई एवं पालकी में विराजित श्री मनमहेश व शमी का पूजन किया गया। पूजन के पश्चात सवारी वापसी में ओव्हर ब्रिज से संख्याराजे धर्मशाला, देवास गेट, मालीपुरा, तोपखाना, महाकाल घाटी होकर श्री महाकालेश्वर मंदिर पहुंची।

इसे भी पढ़े : मल्टी स्टेट कंपनी मे फंस गए लोगों के करोड़ों रुपए

श्री महाकालेश्वर मंदिर के गर्भगृह में श्रद्धालुओं को श्री महाकालेश्वर भगवान के श्री होल्कर स्वरूप के दर्शन हुए। श्री महाकालेश्वर मंदिर में परम्परानुसार महाकाल मंदिर के शिखर पर ध्वज बदला गया । तहसील की ओर से बदले जाने वाले ध्वज का पुजन शुक्रवार प्रात: 7:30 बजे मदिर स्थित पंचायती महानिवार्णी अखाड़े द्वारा किया गया। 

Leave a Reply

%d bloggers like this: