रावण की वेशभूषा डॉक्टर की ,हुआ हंगामा

विरोध के बाद आयोजकों ने रावण के पुतले का स्वरूप बदल दिया।

समाज के प्रति कोरोना वॉरियर के रूप में उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता।

उज्जैन। इस बार सिद्धवट पर रावण का जो पुतला बनाया जा रहा था। इसे डॉक्टर की वेशभूषा पहनाई गई थी। जब यह खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई और देशभर के चिकित्सकों तक पहुंची तो उन्होंने इसे अपना अपमान बताया और इस प्रकार के रावण दहन का विरोध किया। विरोध के बाद आयोजकों ने रावण के पुतले का स्वरूप बदल दिया।

इसे भी पढ़े : वडोदरा एवं झांसी के बीच घोषित सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन अब ग्वालियर स्टेशन तक ही चलेगी

रावण दहन कार्यक्रम के आयोजक पं. सुरेन्द्र चतुर्वेदी ने बताया कि रावण को डॉक्टर की वेशभूषा पहनाने के पीछे हमारी मंशा उज्जैन शहर की जनता को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक करना था। हमारे डॉक्टर्स ने पूरे कोरोना काल में अपनी नि:स्वार्थ सेवा से कई लोगों की जान बचाई है। इस प्रकार के रावण दहन के माध्यम से हमारा मकसद उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाना बिल्कुल नहीं था। इसलिए हमने रावण के पुतले का स्वरूप बदल दिया है। डॉक्टर्स हमारे लिए सम्मानीय है और समाज के प्रति कोरोना वॉरियर के रूप में उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता।

Leave a Reply

%d bloggers like this: