दुःखहरणी द्वार से गुजरने वाली पांच लाइसेंसी प्रतिमाओ के साथ 10 से 15 लोग ही होंगे शामिलः एसडीओ

कोविड-19 के गाइडलाइन का होगा पालन

मूर्ति विसर्जन में सुरक्षा के रहेंगे कड़े प्रबंधःसिटी डीएसपी

सीसीटीवी कैमरे से रहेगी निगरानी

गया। विजयदशमी पर सदियों से चली आ रही पौराणिक परंपरा के तहत शहर के पांच स्थानों पर स्थापित मां दुर्गा की लाइसेंसी प्रतिमाओं को शुक्रवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दुःखहरणी द्वार से पास कराया जाएगा। इस वर्ष कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन ने मूर्ति विसर्जन में सीमित संख्या में लोगों को विसर्जन यात्रा में सम्मिलित रहने का निर्देश दिया है। इसके लिए प्रशासन ने गाइडलाइन भी जारी कर दी है। बृहस्पतिवार को सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के लिए इंद्रवीर कुमार, सिटी डीएसपी पी एन साहू एवं कोतवाली थाना अध्यक्ष मितेश कुमार ने रूट लाइन का निरीक्षण किया।

इसे भी पढ़ें : अवैध हथियार बना कर सप्लाई करने वालों के विरुद्ध कि कार्यवाही

इस बीच उन्होंने पूजा समिति के आयोजकों से मिलकर शांतिपूर्ण तरीके से प्रतिमा को पास कराने का अनुरोध किया। सदर एसडीओ ने बताया कि पूर्व वर्षों की भांति इस वर्ष भी दुःखहरणी मोड़ से सराय मोड़ तक सड़क के दोनों ओर सुरक्षा के दृष्टिकोण से बांस बल्ली से बैरिकेडिंग किया जा रहा है। पर्याप्त संख्या में हैलोजन लाइट से प्रकाश की व्यवस्था रहेगी।

फाइल फोटो

इस वर्ष विसर्जन यात्रा में कोविड नियमों का विशेष ध्यान रखा गया है। मूर्ति को पास करने के लिए 10 से 15 लोगों को अनुमति दी गई है। विसर्जन में शामिल लोगों को मास्क पहनना अनिवार्य रहेगा। किसी प्रकार का कोई ध्वनि विस्तारक यंत्र की मनाही रहेगी।विसर्जन जुलूस में हथियार का करतब दिखाना पूर्ण रूप से वर्जित रहेगा। शहर के कई संवेदनशील स्थानों को बैरिकेडिंग कर पुलिस बलों की तैनाती भी की गई है। वहीं सिटी डीएसपी पीएन साहू ने बताया कि दुःख हरनी मंदिर के पास से होकर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच गुजरेगी। सुरक्षा को लेकर पुलिस अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया है।

संवेदनशील इलाके होने के कारण सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। प्रतिमा विसर्जन वाले रूट लाइन पर पर्याप्त संख्या में सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जाएगी। साथ ही विसर्जन जुलूस का वीडियो ग्राफी भी किया जाएगा। विसर्जन यात्रा वाले मार्ग पर दंडाधिकारी के साथ भारी संख्या में पुलिस बलों की तैनाती की जाएगी। उन्होंने बताया कि शांतिपूर्ण तरीके से पांच प्रतिमाओं को विसर्जन हेतु पास कराया जाएगा।किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए बज्र वाहन के साथ पर्याप्त संख्या में फोर्स भी तैनात रहेंगे।

बताते चलें कि ब्रिटिश काल से ही दुखरनी मंदिर से पांच प्रतिमाओं का विसर्जन प्रत्येक वर्ष विजयदशमी के दिन होता आ रहा है। इस परंपरा को जीवंत बनाए रखने के लिए आज भी सदियों से यह परंपरा चलती आ रही है। प्रतिमा गुजरने के पूर्व दुःखहरणी मंदिर के पुजारी माता दुर्गा की मंगल आरती कर विदा करते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: