बेटियां देवी का रूप है, बेटे-बेटियों में भेदभाव न करें- मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्रीजी ने प्रदेश की 21 हजार से अधिक लाडली लक्ष्मियों को 5.99 करोड की छात्रवृत्ति खातों में अंतरित कर, किया संवाद 

गर-मालवा, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बेटियाँ साक्षात् देवी का रूप होती है, भारतीय संस्कृति में भी इन्हें उच्च स्थान दिया है। माता-पिता बेटे-बेटियों में भेदभाव न करें। आज बेटियां किसी भी क्षेत्र में पीछे नही हैं। बेटी बोझ है, ये सोच अगर माता-पिता के मन में रही, तो बेटियों के साथ भेद-भाव होता रहेगा। बेटियों के प्रति माता-पिता का दृष्टिकोण बदलने हेतु मुख्यमंत्री बनते ही प्रदेश में लाडली लक्ष्मी योजना की कल्पना कर उसे मूर्त रूप दिया गया, जिससे आज बेटी किसी पर बोझ नहीं रही है। बेटियों को पढ़ाई-लिखाई के साथ ही उन्हें बेहतर करियर मार्गदर्शन व प्रशिक्षण देने तथा उच्च शिक्षा में सरकार पूरा सहयोग करेगी।

इसे भी पढ़े :सीएम हेल्पलाइन पर हो रही फर्जी शिकायत

मुख्यमंत्रीजी ने आज महानवमी के दिन प्रदेश की लाडली लक्ष्मियों से संवाद किया। भोपाल के मिन्टो हॉल में आयोजित राज्य स्तरीय लाडली लक्ष्मी उत्सव का पूरे प्रदेश में सीधा प्रसारण किया गया। इस उत्सव में प्रदेश के मुख्यमंत्रीजी ने प्रदेश की लाडली लक्ष्मियों से वर्चुअली संवाद किया और प्रदेश की 21650 लाडली लक्ष्मियों के बैंक खातों में सिंगल क्लिक के माध्यम से 5 करोड 99 लाख की छात्रवृत्ति अंतरित की। जिसमें आगर-मालवा जिले की कुल 500 बालिकाओं को 13 लाख 14 हजार रूपए की छात्रवृत्ति शामिल है। 

आगर-मालवा जिला मुख्यालय पर एन.आई.सी. कक्ष एवं सभी परियोजनाओं में आंगनवाडी केंद्र स्तर पर लाडली लक्ष्मी उत्सव का आयोजन किया गया। इस लाडली लक्ष्मी उत्सव में राज्य स्तरीय कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दिखाया गया। जिला स्तर पर आयोजित कार्यक्रम में अपर कलेक्टर अशफाक अली, जिला कार्यक्रम अधिकारी निशीसिंह, सहायक संचालक भारती अवास्या, सहायक संचालक रीना शर्मा, जनप्रतिनिधि दिनेश परमार द्वारा लाड़ली लक्ष्मियों को पुष्प माला पहनाकर सम्मानित किया तथा लाडली लक्ष्मी के प्रमाण पत्र वितरित किए। इस अवसर पर लाडली लक्ष्मी बेटियां व उनके परिजन उपस्थित रहे।   

Leave a Reply

%d bloggers like this: