RNI N. MPHIN/2013/52360; प्रधान संपादक - विनायक अशोक लुनिया

कोरोना का कद क्या बढ़ा, बौने होने लगे धार्मिक आयोजन और हिंदू पर्व

शहर में 3 दिन तक होता है रावण दहन, इस बार प्रतीकात्मक मनेगा उत्सव,

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

दैनिक राशिफल दिनांक 13 जुलाई (बुधवार) 2022 https://sachchadost.in/archives/93913

सिद्धवट में देगा कोरोना से बचने के लिए वैक्सीनेशन का संदेश, विजया दशमी का पर्व आज मनाया जाएगा

उज्जैन। कोरोना संक्रमण के बढ़ते कद के सामने सनातन धर्म के पारंपरिक बड़े पर्व भी अब बौने साबित होने लगे हैं।नतीजा इस वर्ष रावण के पुतलों का कद भी छोटा हो गया है। शहर के बड़े आयोजनों में जहां 101 फीट ऊंचे पुतलों का दहन होता था वहां उनका कद घट कर 25 फीट से नीचे आ गया है। प्रशासन की गाइड लाइन के अनुसार रावण के पुतलों का दहन प्रतीकात्मक ही होगा। बड़े उत्सव पर रोक लगाई है। इसलिए शहर में छोटे पुतले ही बनाए जा रहे हैं। दशहरा मैदान में 25 फीट का पुतला दहन होगा तो शिप्रा तट पर 11 फीट के रावण का दहन किया जाएगा। 

इसे भी पढ़े :फेसबुक ने किया हजारो में अकाउंट , पेज और ग्रुप को बैन

कोरोना संक्रमण के चलते राज्य शासन ने रावण दहन के मेले जैसे आयोजनों पर रोक लगाई है। इसलिए शहर के दो बड़े उत्सवों दशहरा मैदान और शिप्रा तट के आयोजन भी सीमित कर दिए गए हैं। यहां आयोजन समितियों ने प्रतीकात्मक उत्सव मनाना तय किया है।

भीड़ रोकने के लिए बेरिकेडिंग की तैयारी 

मनीष शर्मा के अनुसार दशहरा मैदान पर 25 फीट ऊंचे रावण का दहन होगा। महाकालेश्वर की सवारी पहुंचेगी तथा पूजन अर्चन के बाद दहन किया जाएगा। प्रशासन ने भीड़ इकट्ठा न हो इसलिए आयोजन स्थल पर बेरिकेडिंग करना तय किया है। इसी तरह शिप्रा तट पर होने वाले उत्सव में 11 फीट ऊंचे पुतले का दहन किया जाएगा। कैलाश विजयवर्गीय के अनुसार आयोजन समिति द्वारा केवल परंपरा का निर्वाह किया जाएगा। किसी तरह का आयोजन नहीं होगा। भैरवगढ़ में उन्हेल चौराहे पर भी आज शाम 15 फीट ऊंचे रावण का दहन होगा। संजय कोरट के अनुसार किसी तरह का उत्सव नहीं मनाया जाएगा। प्रशासन की गाइड लाइन का पालन होगा। महंत महेश दास ने बताया अंकपात पर 15 फीट ऊंचे पुतले का दहन होगा। अिभषेक सिसौदिया के अनुसार नानाखेड़ा पर भी 15 फिट ऊंचे रावण के पुतले का दहन किया जाएगा।

डाॅक्टर वेशभूषा में दिखेगा इस बार पुतला 

सिद्धवट मैदान पर प्रतीकात्मक रावण कोरोना वैक्सीनेशन का संदेश देगा। रावण दहन एवं दशहरा मिलन समारोह इस बार 16 अक्टूबर को बासी दशहरे पर होगा। प्रतीकात्मक 11 फीट का रावण का पुतला बनाया जाएगा, जो डॉक्टर की वेशभूषा में वैक्सीनेशन इंजेक्शन हाथ में लेकर तथा मास्क लगाकर कोरोना से सावधानी तथा बचाव का संदेश देगा। सिद्धवट युवा मंच के संयोजक हेमंत शास्त्री, अध्यक्ष राघवेंद्र चतुर्वेदी ने बताया रावण दहन शाम 7.30 बजे होगा। रावण दहन के पूर्व युवा मंच पदाधिकारियों से संबंधित दिवंगत परिजनों के चित्र पर पुष्पांजलि तथा दीपक लगाकर श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। 16 अक्टूबर को शास्त्री नगर मैदान पर 15 फीट ऊंचे रावण के पुतले का दहन होगा। विजय दरबार के अनुसार प्रशासन की गाइड लाइन होने से उत्सव नहीं मनेगा। केवल प्रतीकात्मक पुतला दहन होगा।

दशहरा पर्व पर निकलेगी भगवान महाकालेश्वर की सवारी

वर्ष में एक बार श्री महाकालेश्वर नए शहर की  प्रजा का हाल जानने फ्रीगंज क्षेत्र जायेगे अश्विन शुक्ल दशमी तिथि आज विजयादशमी पर्व मनाया जायेगा। 

दशहरे के दिन भगवान श्री महाकाल सवारी के रूपमे लाव लश्कर के सांथ दशहरा मैदान पोहचेंगे।इस से पूर्व महाकाल मंदिर में अपरान्ह्: 04 बजे सभा मंडप में राजा श्री महाकालेश्वर का पूजन-अर्चन होगा मन्दिर से राजा श्री महाकाल काफिला प्रारंभ होकर दशहरा मैदान जाएंगे।

जहां शमी के वृक्ष के नीचे बाबा महाकाल का पूजन-अर्चन होगा। पूजन पश्चात श्री महाकालेश्वर पुनः मंदिर आएंगे। 

श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक  गणेश कुमार धाकड़ ने बताया कि,  कोविड – 19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए व्यवस्था  में लगे सभी लोगों को अनिवार्यत: मास्क धारण करने व समय-समय पर सेनेटाईजर का उपयोग करते रहने हेतु निर्देश दिये गये है। सवारी में सीमित संख्या में अधिकृत व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे तथापि संपूर्ण वैभव, परंपरा एवं गौरव से सवारी निकाली जावेगी।

मूर्ति विसर्जन में केवल 10 लोग शामिल हो सकेंगे, जुलूस व आतिशबाजी पर प्रतिबंध

देवी दुर्गा की आराधना का पर्व नवरात्रि उत्सव आज खत्म हो जाएगा और अश्विन शुक्ल दशमी को विजयादशमी (दशहरा पर्व) मनाया जाएगा।जिसे लेकर प्रशासन ने मूर्ति विसर्जन व दशहरा की गाइडलाइन जारी की है जिसमे रामनवमी पर्व के साथ नवरात्रि पर्व भी समाप्त हो जाएगा। इसके बाद देवी प्रतिमा विसर्जन किया जाएगा। प्रतिमा विसर्जन में केवल 10 व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे। इस दौरान किसी भी तरह का जुलूस व रैली प्रतिबंधित रहेंगे। पूजा स्थलों पर 50 % क्षमता के साथ श्रद्धालु शामिल हो सकेंगे। आतिशबाजी व डीजे पर प्रतिबंध रहेगा। गाइडलाइन का पालन नहीं करने वालों पर धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। 

Leave a Reply

%d bloggers like this: