परिजनों को शंका पत्नी ने मारा पति को

पत्नी धमकी देती है कि बार-बार पूछताछ की तो सब परिवारवालों को झूठे केस में फसवा देगी।

मौत के डेढ़ महीने बाद भी पुलिस ने हमारी एक नहीं सुनी,

तीन बच्चों के पिता की मौत को परिवार बता रहा हत्या, पत्नी कह रही फांसी लगाई-आईजी को शिकायत कर निष्पक्ष जांच की मांग की

उज्जैन। किराये के मकान एलआईजी सेकंड, 175 ढांचा भवन में पत्नी संगीता एवं तीन बच्चों के साथ रहने वाले आशुतोष राजोरिया की 22 अगस्त 2021 को हुई संदिग्ध अवस्था में मौत को उसके परिवारवालों ने हत्या बताया है। परिजनों ने शंका जाहिर की कि हत्या आशुतोष की पत्नी ने ही किसी अन्य के साथ मिलकर की है, लेकिन मौत के डेढ़ महीने बाद भी पुलिस ने हमारी एक नहीं सुनी, बुधवार को आईजी को की शिकायत में मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की गई।

आशुतोष के भाई साईधाम कॉलोनी निवासी शिवम राजोरिया ने बताया कि संगीता ने 22 अगस्त की रात्रि 1.07 बजे घटना की जानकारी हमें दी। संगीता ने बताया कि आशुतोष ने फांसी लगा ली है तथा कुछ देर पहले ही एक अन्य व्यक्ति के साथ उसे फांसी के फंदे से उतारा। परिवार ने उक्त बात को झूठी व बनावटी बताया, संगीता ने इसकी सूचना तुरंत पुलिस को नहीं दी, न ही किसी परिजन को दी, बल्कि एक व्यक्ति के साथ फांसी पर लटके आशुतोष को आगे वाले कमरे से उठाकर पीछे वाले कमरे में रख दिया।

इसे भी पढ़े :चरक अस्पताल में मोबाइल चोर गिरोह सक्रिय

फांसी लगाने के संबंध में संगीता कुछ भी बताने से इंकार कर देती है। जोर देने पर धमकी देती है कि बार-बार पूछताछ की तो सब परिवारवालों को झूठे केस में फसवा देगी। शिवम ने आरोप लगाया कि पुलिस संगीता पर दबाव देकर सही जानकारी हासिल नहीं कर पा रही। क्योंकि आशुतोष जब भी परिवारवालों से मिलता था तो वह संगीता के अवैध संबंधों के बारे में बताता था, इस मामले की जांच भी पुलिस द्वारा नहीं की जा रही है।

परिवारवालों द्वारा हत्या का शक जताने के बावजूद मृतक का विसरा भी जब्त नहीं किया गया जिससे मृत्यु की सही स्थिति का पता चल सके, जहां घटना हुई है उस स्थान से भी कोई बरामदगी पुलिस द्वारा आज तक नहीं की गई। आशुतोष के परिवार वालों के बयान तक नहीं लिये गये। 13 अक्टूबर को आईजी से शिकायत कर मांग की कि चिमनगंज थाना पुलिस को इस मामले की निष्पक्ष जांच करने के आदेश प्रदान करें ताकि आशुतोष के हत्यारों को सजा मिल सके।

इसे भी पढ़े : घर में गायब तीन माह की बच्ची का पानी की टंकी मैं मिला शव

संबंधों को लेकर चल रहा था विवाद

शिवम ने बताया कि पूर्व में संगीता का पति आशुतोष से आपसी संबंधों को लेकर विवाद चल रहा था, आशुतोष ने संगीता के विरूध्द न्यायालय में प्रकरण भी प्रस्तुत किया था। उक्त प्रकरण में संगीता द्वारा आगे से विवाद नहीं करने की बात कही थी जिसके कारण न्यायालय में संगीता से समझौता हो गया था।

डेढ़ महीने से भटक रहा परिवार

शिवम ने बताया कि आशुतोष की मौत के बाद से परिवार डेढ़ महीने से न्याय के लिए भटक रहा है, पहले चिमनगंज थाना पुलिस से गुहार लगाई, 8 दिन तक चक्कर काटने के बाद आवेदन तो लिया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की, इसके बाद एसपी, मुख्यमंत्री हेल्पलाईन में भी शिकायत की।

Leave a Reply

%d bloggers like this: