नगर में बीमार हो रहे कुत्तों के इलाज करवा रहे समाजसेवी – एक्सीडेंट में टूटे पैर का पट्टा चढ़वाया

थांदला। बेजुबान के दर्द को यदि कोई इंसान समझने लग जाए तो वह फिर किसी फ़रिश्तें से कम नही हो जाता। नगर में विगत कुछ समय से जहाँ पशु दुर्घटनाओं के शिकार हो रहे थे वही इन दिनों कुत्तों में विचित्र सी बीमारी देखने को मिल रही है। जिसके चलते नगर के अनेक समाजसेवी उनकी सेवा के अवसर को भी भुना रहे है तो वही इन समाजसेवियों के एक फोन पर थांदला वेटनरी विभाग में कार्यरत डॉ महेश खराड़ी, डॉ नीलेश भयडिया, डॉ मनीष भट्ट, डॉ वीरेंद्र खराड़ी, एवीएफओ रोशन कटारा, असिस्टेंट खरे भी ततपरता से सराहनीय कार्य कर रहे है।

इसे भी पढ़े :मानसिक अवसाद बन रहा है आत्महत्या का कारण

विगत दिनों जब नगर परिषद कर्मचारियों की मदद से एक सांड का उपचार किया तो नयापुरा व जवाहर मार्ग के जीवदया प्रेमी की सूचना पर कुत्तों का उपचार किया। वैसे ही सिविल अस्पताल के वरिष्ठ डॉ मनीष दुबे के आग्रह पर उक्त टीम ने उनके निवास पर पहुँच कर एक कुत्ते की लापरवाह इंसान की गाड़ी चढ़ जाने टांग टूट गई जिसका उपचार किया गया।

नगर में इन दिनों इंसान की तरह ही पशुओं में भी संक्रमण का खतरा बढ़ने लगा है जिसके चलते पशु चिकित्सा विभाग तो सजग है ही परन्तु नगर के जीव दया प्रेमी यदि जागरूकता दिखाए तो निश्चित बेजुबान की सेवा का परोपकार कर उन्हें भी आरोग्य बना सकते है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: